जीरो टॉलरेंस का असर ,आई ए एस चन्द्रेश यादव व पंकज पांडे एनएच-74 में सस्पेंड।

भ्रष्टाचार पर सरकार का वार दो आई ए एस चन्द्रेश यादव व पंकज पांडे एनएच-74 में सस्पेंड।
बहुचर्चित एनएच-74 घोटाले की परत दर परत जांच के बाद लपेटे में आये दोनों आईएएस पंकज कुमार पांडे और चंद्रेश कुमार यादव को सरकार ने सस्पेंड कर दिया है।सूत्रों के अनुसार मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने इस मामले की फाइल सोमवार तलब कर दी थी पिछले कई दिनों से इस मामले में धीमी गति के लिए सरकार की आलोचना की जा रही थी। जिससे रावत सरकार ने तरित गति दिखाते हुए भ्रष्टाचार पर बडा प्रहार किया है।


उपर मुख्य सचिव कार्मिक राधा रतूड़ी ने आज एक आदेश में कहा कि इन दोंनो आईएएस ऑफिसरों को नियम के विरूध कई गुना मुआवजा स्वीकृत करने तथा नियम के विरूद्व लैंड यूज चेंज करने के आरोप में वृहद दंड दिया जा सकता है। लिहाजा इन्हें सस्पेंड किया जा सकता है। निलंबन की अवधि के दौरान दोनां अधिकारी अपर मुख्य सचिव कार्यालय से संबंध रहेगें।


दोनों अधिकारियों से एसआईटी पहली और दूसरे दौर की पूछताछ कर चुकी है इस मामले मे आगे विभागीय जांच होगी या एस आई टी जांच जारी रखेगी। संस्पेड होने के बाद दोनों अधिकारियों की मुस्किलें बडना तय है। राज्य सरकार के इस फैसले से आईएएस लॉबी में हलचल मच गई है।