P M मोदी संग पूरी दुनिया ने किया योग बना अनोखा रिकॉर्ड

-उत्तराखंड की धरती को बताया योगभूमि
-योग को शरीर,समाज,देश और दुनियां में शांति,आरोग्य,समृद्वि का बताया केन्द्र
-मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र रावत ने जताया प्रधानमंत्री का आभार।

 //भानु प्रकाश नेगी

अन्तराष्ट्रीय योग दिवस पर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने देहरादून स्थित एफआरआई के प्रांगण से अपने संम्बोधन में उत्तराखंड की धरती को योग भूमि बताया। उन्हांने कहा कि उत्तराखंड में जहां विश्व प्रसिद्व चार धाम स्थित है वही यह पावन भूमि योग और तप की सदियों से धूरी रही है। चौथे अन्तराष्ट्रीय योग दिवस पर उन्हांने पूरे देशवासियों को हार्दिक बधाई व शुभकामनायें देते हुऐ कहा कि उत्तराखंड अनेक दशकों से योग का मुख्य केन्द्र बिन्दु रहा है। जहां की पर्वत श्रृखलायें स्तह ही योग और आयुवेद के लिए प्रेरित करते है। सामान्य से सामान्य नागरिक भी जब इस पावन धरती पर आता है तो उसे अलग तरह की दिव्य अनुभूति होती है। उत्तराखंड की इस पावन धरा पर अद्भूत स्फूर्ति व सम्मोहन है।

 

पीएम मोदी ने कहा कि यह हम सभी भारतीयों के लिए गर्व की बात है कि आज के दिन उगते सूरज के साथ योग का विस्तार हो रहा है। देहरादून से दार्जलिंग तक, संघाई से शिकागों तक,जर्काता से जोहन्सवर्ग तक योग ही योग हो रहा है। हिमालय के हजारों फीट उॅचें पर्वत हो या धूप से तपता रेगिस्तान योग हर परिस्थित में जीवन को समृद्वि कर रहा है।जब तोड़ने वाली ताकतें हावी होती है तब समाज व राष्ट्र के बीच विखराव आता है,समाज मे दीवारें खडी होती है,परिवार में कलह बढता है यहां तक कि व्यक्ति खुद ही अंदर से टूटता है, टूकडों में बिखरता है जिससे जीवन में तनाव आता है।वही योग इन सब के बीच जोड़ने का काम करता है।


प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि आज की आपाधापी और तेज रफतार से दौडती जिन्दगी में योग मन,शरीर,आत्मा,बु़द्वि को जोड कर व्यक्ति के जीवन में शांति और समृद्वि की अनुभूति करता है।व्यक्ति को परिवार में जोडकर खुशहाली बड़ता है। परिवार को समाज के प्रति संवेदनशील कर समाज में सद्भाव बढाता है।
उन्होनें अपने संम्बोधन में कहा कि योग,व्यक्ति,परिवार समाज,देश और सम्पूर्ण मानवता को जोडता है। यूनाईटेड नेशन में यह पहला प्रस्ताव है जिसको सबसे कम समय में मंजूरी मिली है और दुनियां के सबसे ज्यादा देशों ने इसे मंजूरी दी है। हम हिन्दुस्तानियों के लिए यह बहुत बडा संदेश है कि हम उस महान विरासत के धनी है, हम इस महान परम्परा व विरासत को संजोये हुऐ है अगर हम अपनी विरासत पर गर्व करना शुरू करें तो दुनियां उसका अनुसरण करने में कभी भी नही हिचकिचायेगी।हमें अपनी शक्ति और सामर्थ्य पर भरोषा करना चाहिए।


कार्यक्रम के दौरान मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने अर्न्तराष्ट्रीय योग दिवस पर उत्तराखंड(देहरादून) पधारने पर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी का आभार व्यक्त किया।उन्होनें योग को स्वास्थ रहने की संम्पूर्ण प्रणाली बताया।इस अवसर पर परमार्थ निकेतन ऋषिकेश से पधारे स्वामी चिदानंद समेत उत्तराखंड मंत्रीमंडल और समस्त भाजपा विधायकों समेत कई गणमान्य व्यक्तियों और जारों लोगों ने प्रतिभाग किया।