सीनियर डाॅक्टरों की अनदेखी कर जूनियर डाॅक्टरों को मिली बडी जिम्मेदारी

हाॅल ही में 27 चिकित्साधिकारियों के तबादलों में कई सीनियर चिकित्सकों के पर कतर सरकार ने जूनियर डाॅक्टरों को चिकित्साधिकारी बना दिया। सरकार ने अपनी मंसा साफ कर दी कि काम में लापरवाही बरतने वाले चिकित्सकों को अपना काम मुस्तैदी से करना होगा नही तो उनकी अनदेखी इसी प्रकार से की जायेगी।
पदोति पाने वाले जूनियर डाॅक्टरों में उत्तरकाशी में तैनात सीएमएस डाॅ. बीके नौटियाल,रूद्रप्रयाग सीएमएस डाॅ.एसके झा,पौडी के सीएमएस वीएस जंगपागी, और बागेश्वर में तैनात सीएमएस डाॅ मंडल आदि सामिल है।गैरतलब है कि इनका नाम प्रथम वरियता सूची से भी गायब है फिर भी राज्य सरकार ने सीनियर डाॅक्टरों की अनदेखी कर जूनियर डाॅक्टरों को पदोनित से नवाजा है।
गाॅधी शताब्दी नेत्र चिकित्सालय के सयुक्त निदेशक और बरिष्ट नेत्र सर्जन डाॅ बीसी रमोला ने सरकार के इस कदम का स्वागत करते हुये कहा है कि जिन बरिष्ट चिकित्सकों को सरकार ने इस योग्य नही समझा है उन्हें अपने करियर के बारे में सोचने की आवश्कता है।