श्रीमद्भागवत कथा से मिलेगी, आन्दोलनकारी शहीदों की आत्मा को शांति.

क्योंकि श्रीमद्भागवद कथा सभी कथाओं में श्रेष्ठ मानी जाती है,इसके नियम पूर्वक श्रवण मात्र से ही मोक्ष की प्राप्त हो जाती है।उत्तराखंड राज्य के लिए आंन्दोलनरत शहीदों की आत्मा को इस कथा से मोक्ष की प्राप्ति होगी।यह कथन कथा व्यास आचार्य शिव प्रसाद ममगाई ने सनातन धर्म मन्दिर नेहरू कालोनी देहरादून में आन्दोलनकारी(1994)शहीदों की 25वी वर्ष गांठ पर श्रीमद्भागवत कथा के दौरान कही।


बाल विकास शिक्षा समिति,बेटी अधिकार मिशन,देवभूमि सिविल सोसायटी,उत्तराखंड न्याय मंच,एवं संक्रान्ति सोसायटी के तत्वाधान में आयाजित वर्ष 1994 उत्तराखंड राज्य आन्दोलन को याद करने व शहीदों की याद में 31 दिसंबर से आचार्य शिव प्रसाद ममगाई के सानिध्य में 2 बजे से 6 बजे तक श्रीमद्भागवत कथा का आयोजन किया जा रहा है
कथा के दौरान अध्यक्ष चन्द्रशेखर भट्ट,कोषाध्यक्ष सुदर्शन शर्मा,सचिव उत्तम सिंह पुरषोडा,मीडिया प्रभारी राकेश सेमवाल,पंकज सेमवाल,संरक्षक,विमल पंवार,सुमित्रा पांडे,प्रो0दिवान सिंह,जी0एल0शाह,विरेन्द्र सिंह,प0 अधीर कौशिक कार्यभार संभाल रहे है।