स्व-रोजगार प्रसिक्षण से होगी ग्रामीण महिलायें सशक्त-प्रमुख पोखरी

वर्मी कम्पोस्ट एवं डेयरी फार्मिग प्रसिक्षण कार्यक्रम में प्रसिक्षणाणीर्थीयां ने सीखे स्वारोजगार के गूर।
 स्वरोजगार से होगी आर्थिक स्थित मजबूत।
 प्रसिक्षण में कई गांवों की महिलाओं ने लिए प्रसिक्षण ।

पोखरी /चमोली

//भानु प्रकाश नेगी//

उत्तराखंड पर्वतीय आजीविका संवर्धन कंपनी(उपासक)द्वारा प्रायोजित एवं एसबीआई ग्रामीण स्व-रोजगार प्रसिक्षण संस्थान(आर सेटी) के तत्वाधान में आयोजित विकासखंड पोखरी के ब्लाक सभागार 10 दिवसीय डेयरी फार्मिंग एवं वर्मी कम्पोस्ट निमार्ण एवं कौसल प्रसिक्षण का शुभारम्भ सहायक खंण्ड विकास अधिकारी एवं आर सेटी के निदेशक बी एस रावत व ब्लाक प्रमुख विनीता देवी द्वारा संयुक्त रूप से किया गया।
प्रसिक्षण के माध्यम से ग्रामीणों को दुग्ध व्यवसाय से आत्मनिर्भर बनाने के गूर सिखाये गये।कार्यक्रम में बतौर अतिथि सिरकत करने वाले मुख्य व विशिष्टि अतिथियों ने डेयरी फार्मिंग एवं वर्मी कम्पोस्ट निमार्ण प्रसिक्षण कार्यक्रम को महत्वपूर्ण बताते हुए प्रतिभागियों को इसका भरपूर लाभ उठाते हुऐ इसे स्वरोजगार के तौर पर अपनाने को कहा। आर के सेटी के निदेशक बीएस रावत ने बैंको द्वारा चलाई जा रही विभिन्न योजनाओं के बारे में जानकारी दी।


प्रसिक्षण कार्यक्रम के दौरान संजय पुरोहित ने उपासक एंव समूहों और आजीविका संधों को उधम स्थापना करने के बारे में बताया गया,साथ ही दुग्ध उत्पादन व्यवसाय स्व-रोजगार के रूप में अपना कर आर्थिक जीवन स्तर मे सुधार लाने के प्रयास करना चाहिए। प्रसिक्षण कार्यक्रम के दौरान पोखरी ब्लाक विनीता देवी ने भी आम आदमी की तरह प्रशिक्षण लिया जो सभी प्रसिक्षणार्थीयों के लिए प्रेरणा का स्रोत रही। कांग्रेस के युवा नेता गिरीश कमोठी ने कहा कि इस तरह के स्व-रोजगार कार्यक्रमों से ग्रामीण महिलाओं की आर्थिकी मजबूत होगी जिससे उनका जीवन स्तर भी उंचा होगा, लेकिन राज्य सरकार द्वारा ग्रामीण क्षेत्रों के विकास कार्यो में लापरवाही की जा रही है,जिला पंचायत एवं ग्राम सभाओं में बजट आंवटन में भेद-भाव किया जा रहा है। जिससे क्षेत्र के विकास में काफी रूकावटें पैदा हो रही है।