धूम्रपान करने वाले लोगों के लिए ये खबर खास है।

 

फेफडों की जांच के लिए कोरोनेशन अस्पताल में लगी दो नई मशीनें
-धूम्रपान करने वाले मरीजों को मिलेगा जांच मशीन का फायदा

 

 

देहरादून
भारत सरकार द्वारा आयोजित धुम्रपान निवारण के अन्र्तगत कोरोनेशन अस्पताल में फेफडों की जांच के लिए दो नई मशीनें लगाई गई है। जिसमें धूम्रपान करने वाले व्यक्ति के फेफडों की जांच की जा सकेगी। हिमवंत प्रदेश न्युज को दिये एक खास इंटरब्यूह मंे यह जानकारी कोरोनेशन अस्पताल के मुख्य चिकित्सा अधिकारी डाॅ एल सी पुनेठा ने दी।

डाॅ पुनेठा ने बताया कि अस्पताल में लगाई गई एक मशीन से धूम्रपान करने वाले व्यक्ति के फफडों में काॅबन मोनो आक्साईड गैस का पता लगाया जा सकेगा। क्योकि यह गैस हमारे शरीर के लिए अतियंत हानिकारक गैस होती है। इससे गर्भवती महिलाओं और उन्होने वाले बच्चे को तकलीफ हो सकती है। और इससे फेफडों मे कैन्सर जैसी भयानक बीमारी तक हो जाती है। अगर कोई व्यक्ति 10 सिगरेट 10 साल तक पीता है तो उसे फेफडों के कैन्सर होना का 90 प्रतिसत तक आसार रहते है। पहाडी जिलों में टी बी के मरीज सबसे अधिक पाये जाते है जिसमें फेफडों के कैन्सर के मरीजों की तादात लगातार बडती जा रही है जिसका प्रमुख कारण धूम्रपान और रसोई से निकलने वाला धुंआ होता है। अस्पताल में लगी इन दो मशीनों से सांस के रोगी ओर फेफडे संे संम्बधित रोगियों की कार्बन मोनो आॅक्साईड गैस का पता और फेफडों की जांच की जायेगी साथ ही धूम्रपान करने वाले मरीजों को इसे छोडने की सलाह दी जायेगी ताकि वह बेहतर जिन्दगी को जी सके।

गौरतलब है कि कोरोनेशन अस्पताल में सीएमएस डाॅ.पुनेठा के आने बाद भारत सरकार द्वारा “कायाकल्प“ का क्रमशः प्रथम और द्वितीय पुुरस्कार मिल चुका है रेफर सेटर से 1000 ओपीडी तक और अस्पताल में हर तरह की चाक चैबंद व्यवस्था कराने में डाॅ पुनेठा की कढी मेहनत और सरल व्यवहार रहा है।

-BHANU PRAKASH NEGI DEHRADUN