एसबीआई (SBI) खाताधारक जान लें ये 4 नियम

खास बातें

  1. एसबीआई के सेविंग खाते में मिनिमम बैलेंस अब 3k
  2. जुर्माना राशि में 20 से 50 फीसदी कटौती
  3. स्टेट बैंक ऑफ इंडिया के सब्सिडियरी बैंकों की पुरानी चेकबुक अमान्य

नई दिल्ली: अगर स्टेट बैंक ऑफ इंडिया के ग्राहक हैं या भविष्य में इसमें खाता खोलने का मन बना सकते हैं तो यह खबर आपके काम की है. एसबीआई ने ग्राहकों से जुड़े कई मामलों में हाल ही में नियमों में बदलाव किए हैं और ये बदलाव 1 अक्टूबर यानी आज से लागू हो रहे हैं. आइए जानें इनके बारे में…

सेविंग खाता न्यूनतम बैलेंस…
स्टेट बैंक ऑफ इंडिया (SBI) ने अपने ग्राहकों को राहत देते हुए सेविंग्स अकाउंट के लिए न्यूनतम बैलेंस घटा दिया है जोकि 1 अक्टूबर यानी आज से लागू हो गया. अभी तक न्यूनतम बैलेंस 5,000 रुपए था, जिसे अब 3,000 रुपये कर दिया गया है. सार्वजनिक क्षेत्र के इस सबसे बड़े बैंक ने पेंशनभोगियों, सरकार की सामाजिक योजनाओं के लाभार्थियों तथा नाबालिग खाताधारकों को बचत खाते में न्यूनतम बकाये की सीमा से छूट दी है. इस साल अप्रैल में SBI ने 5 साल बाद नए सिरे से न्यूनतम मासिक शेष और शुल्क को फिर से लागू किया था. महानगरों के लिए न्यूनतम राशि सीमा 5,000 रुपये रखी गई थी, वहीं शहरी और अर्द्धशहरी शाखाओं के लिए यह सीमा क्रमश: 3,000 और 2,000 रुपये तथा ग्रामीण शाखाओं के लिए 1,000 रुपये रखी गई थी.

एसबीआई (SBI) के इन 6 बैंकों की चेकबुक 30 सितंबर तक हो जाएगी पूरी तरह से अवैध

न्यूनतम राशि न रखने पर जुर्माना भी घटाया गया…
देश के सबसे बड़े बैंक ने न्यूनतम सीमा का अनुपालन नहीं करने पर जुर्माने में भी कटौती की है. बैंक ने जुर्माना राशि को 20 से 50 फीसदी तक कम किया है. बैंक ने कहा कि अर्द्धशहरी और ग्रामीण क्षेत्रों के लिए यह शुल्क या जुर्माना राशि 20 से 40 रुपये के दायरे में होगी. वहीं शहरी और महानगर के केंद्रों के लिए यह 30 से 50 रुपये होगी. अभी तक महानगरों के लिए बैंक न्यूनतम राशि 75 प्रतिशत से नीचे आने पर 100 रुपये और उस पर जीएसटी वसूला जा रहा था. अगर न्यूनतम राशि 50 फीसदी या उससे कम पर आता है तो इसके लिए GST के साथ 50 रुपये का जुर्माना वसूला जा रहा था. वहीं ग्रामीण क्षेत्रों में न्यूनतम शेष न रखने पर 20 से 50 रुपये (साथ में GST) का जुर्माना लगाया जा रहा था.

FCI में 860 पदों पर निकली वैकेंसी, ऑनलाइन भी कर सकते हैं आवेदन

एसबीआई बैंकों की पुरानी चेकबुक अमान्य…
स्टेट बैंक ऑफ इंडिया के सब्सिडियरी बैंकों के ग्राहकों को नई चेकबुक इश्यू करानी होगी क्योंकि आज से इनकी पुरानी चेकबुक व आईएफएस कोड पुराने हो जाएंगे.इन चेकबुकों पर लिखे हुए पुराने IFS (Indian Financial System) कोड भी अवैध हो जाएंगे.  यदि आपका खाता इन छहों बैंकों में से किसी एक में भी है तो आपको नई चेकबुक इश्यू करवाने के लिए आवेदन दे देना चाहिए, स्टेट बैंक ऑफ त्रावणकोर,  स्टेट बैंक ऑफ पटियाला, स्टेट बैंक ऑफ हैदराबाद, स्टेट बैंक ऑफ बीकानेर और जयपुर, स्टेट बैंक ऑफ रायपुर, भारतीय महिला बैंक. नई चेक बुक के लिए इंटरनेट और मोबाइल बैंक के जरिए अप्लाई कर सकते हैं. इसके अलावा एटीएम और होम ब्रांच में जाकर भी अप्लाई कर सकते हैं.