पहाड़ो में स्वास्थ्य सेवाओं की बदहाली बयां करता ग्राम पंचायत कुनियाली का सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र।

 रूद्रप्रयागः ग्राम पंचायत कुनियाली में 1983 से किराये के भवन मे संचालित हो रहे सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र के पास अपना स्वंय का भवन न होने के कारण खुद अस्पताल मरणासन्न की स्तिथि में पड़ा हुआ है।

  1. ज्ञात हो कि 34 वर्षो से यह स्वास्थ्य भवन के संचालित हो रहा है।सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र की तस्वीर देखकर सहज अंदाजा लगाया जा सकता है कि यह किस हालत में चल रहा होगा। वर्तमान समय मे स्वास्थ्य केंद्र मे एक चिकित्सक एक वार्ड ब्वाय और फारमेसिसट भी कार्यरत है।इसके आलावा पैथालॉजी लैब भी है ।लेकिन सुविधा न होने कारण लैब का कार्य नही हो पाता है।तथा वर्षो से कार्यरत स्वास्थ्य कर्मियों को  कई परेशानियों के दौर से गुज़रना पड़ रहा है। किराये के कमरों में चल रहे इस सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र में मूलभूत सुविधाओं के तौर पर बिजली और पानी भी नही है।भवन इतनी जर-जर हालत में है कि कभी गिर सकता है।

पूर्व क्षेत्र पंचायत सदस्य दिनेश पंवार, रमेश पंवार ,बीरबल पंवार, पुष्कर सिंह पंवार आदि का कहना है कि ग्रामीणों ने भवन निमार्ण के हेतु 5 नाली जमीन नौ माह पहले दान दी थी जिसकी समस्त पत्रावली प्रशासन को भेज दी गयी थी मगर आज तक भवन निमार्ण के हेतु कोई कारवाई नही की गयी है।  ग्रामीण  आज तक भवन निर्माण की राह ता रहें है लेकिन भवन निर्माण का काम शुरू नही हो पाया है।यही कारण है कि पहाड के लोग जन सुविधाओं के आभाव में लगातार शहरों की ओर पलायन कर रहे है।

      -रामरतन पंवार जखोली