सैनिक स्कूल निर्माण में देरी से क्षेत्रवासी परेसान।

स्वीकृत सैनिक विद्यालय थाती बड़मा वि.खं .जखोली जनपद (रूद्रप्रयाग) के निर्माण में देरी होने से जनता में सरकार सुस्त रवैये के प्रति संदेह पैदा होता नजर आ रहा है ।जैसे कि सैनिक विद्यालय पूर्व सरकार में पूर्व मुख्यमंत्री विजय बहुगुणा व सैनिक कल्यांण मंत्री डा.हरक सिहं रावत के प्रयासों से स्वीकृत हुआ शासन द्वारा ग्यारह करोड़(11करोड़)रू स्टेडियम ,एप्रोच सड़क,अधूरी बाँऊण्ड्री वाल, वैकल्पिक पेयजल लाइन,विधुत पे खर्च किया गया लेकिन अचानक एक वर्ष पूर्व से निर्माणाधीन सैनिक स्कूल थाती बड़मा का कार्य जाँच के नाम पर बंद कर दिया गया है ।

सैनिक स्कूल निर्माण संघर्ष समिति के अध्यक्ष कालीचरण रावत का कहना है कि कई बार शासन से गुहार लगाने पर भी आज तक कार्य प्रारम्भ नहीं हो पा रहा है जबकि जनता ने अपनी एक हजार नाली भूमि सैनिक विद्यालय निर्माण हेतु दाननुमा उत्तराखंण्ड सरकार को नि:शुल्क उपलब्ध कराई गयी थी।

क्षेत्रवासी अपने कृषि खेतों को ऊबड़ खाबड़ देखकर सरकारी  जाँच  पर संदेह कर रहे है। गौरतलब है कि विद्यालय का विधिवत संचालन वर्ष 2019 से सुचारू होना तय था।  क्षेत्रीय जनता का सरकार के प्रति आक्रोश लगातार बडाता जा रहा है।इनका कहना है कि हमने अपनी भूमि क्षेत्र के विकास के लिये दान दी है जिस पर सरकार का रवैया अतियंत लापरवाही पूर्ण है ।उन्होने सैनिक स्कूल मे देरी के लिय राजनीतिक पार्टीयों को जिम्मेदार बताया।और चेताया कि जल्द दुबारा का काम नही लगाया गया तो उग्र आन्दोलन किया जायेगा।