सैन्य सम्मान के साथ शहीद की अन्तिम बिदाई,उमड़ा जन सैलाब।

सैन्य सम्मान के साथ जवान को दी अंतिम विदाई

बड़कोट ( सोबन सिंह असवाल )


जम्मू-कश्मीर के बारामुला जिले में एक्सीडेंटल मिस फायर में मारे गए आईटीबीपी के जवान चंद्रमणि नौटियाल को उनके पैतृक घाट त्रिवेणी संगम गंगनानी में सैन्य सम्मान के साथ सोमवार को अंतिम विदाई दी गई। सैनिक के अंतिम विदाई यात्रा में रवांई घाटी क्षेत्र सहित दूर-दूर से बड़ी संख्या में लोग शामिल हुए।आईटीबीपी के जवान बड़कोट तहसील के क्वालगांव निवासी चंद्रमणि नौटियाल जम्मू कश्मीर के बारामुला जिले में तैनात थे।

आईटीबीपी के डिप्टी कमांडेंट सीएल बड़सीवाल के अनुसार बीती 30 मार्च को जवान चंद्रमणि नौटियाल का एक्सीडेंटल मिस फायर होने से निधन हो गया था। जवान की मृत्यु के बाद सैन्य सम्मान के साथ उनका पार्थिव शरीर सोमवार को सुबह उनके निवास स्थान बड़कोट नगर पालिका के वार्ड नंबर चार में पहुंचा। जहां परिजनों, नाते रिश्तेदारों, जनप्रतिनिधियों व क्षेत्र के लोगों ने उनके पार्थिव शरीर के अंतिम दर्शन किए तथा करीब 10 बजे उनके निवास स्थान बड़कोट से उनकी अंतिम यात्रा गंगनानी के लिए निकली। पैतृक घाट त्रिवेणी संगम गंगनानी में उनको आईटीबीपी के जवानों ने शोक धुन के साथ अंतिम सलामी दी तथा सैनिक सम्मान के साथ उनका अंतिम संस्कार किया गया। शहीद के ज्येष्ठ पुत्र राजेश नौटियाल ने शहीद की चिता को मुखाग्नि दी।उत्तरकाशी मातली आइटीबीपी के डिप्टी कमांडेंट सीएल बड़सीवाल ने कहा है कि प्रथम दृष्टया जवान चंद्रमणि नौटियाल की मृत्यु एक्सीडेंटल फायर से हुई है। जिनकी बीती 30 मार्च को मृत्यु हो गयी थी। उन्हें आज यहां सैनिक सम्मान के साथ अंतिम विदाई दी गई है।

उन्होंने कहा कि इसके बाद आईटीबीपी की ओर से कोर्ट ऑफ इंक्वायरी होगी। जिसमें सभी कारणों का साफ-साफ पता लग पायेगा।मृतक जवान की अंतिम विदाई यात्रा के इस मौके पर यमुनोत्री विधायक केदार सिंह रावत, जिला पंचायत अध्यक्ष जसोदा राणा, शिव प्रसाद चमोली, सीओ श्रीधर बड़ोला, थाना प्रभारी निरीक्षक डीएल कोहली, पूर्व विधायक मालचंद, अतोल रावत, राजेन्द्र सेमवाल, मोहन सिलवाल, संजय डोभाल, अजवीन पवार,, पुलिस, प्रशासन सहित बड़ी संख्या में लोग उपस्थित रहे।