यहां लाल बत्ती में भी नही रूकता ट्रैफिक!देखिये वीडियो.

देहरादून-शहर में यातायात व्यवस्था की चाक-चौबन्द व्यवस्था का दावा करने वाली ट्रैफिक पुलिस की पोल उस समय खुल जाती है,जब शहर के मुख्य चौकों पर यातायात लाल बत्ती का भी इन्तजार नही करता,लिहाजा हर दिन दुर्धटनाओं के कारण लोग असमय ही मौत के मुहूं में चले जाते है।
आमतौर पर यातायात पुलिस नियम और कानून बडे सख्त निकाल लेती है,लेकिन जब उसे धरातल पर उतारने की बारी आती है तो उसकी रफतार बहुत धीमी यानी की ना के बराबर होती है। हॉल ही में पुलिस द्वारा दुपहिया वाहन की दोनों सवारियां के लिए हेल्मेट की अनिवार्यता की गई थी, लेकिन शहर में अभी 90 प्रतिसत से अधिक लोग दुपहिया वाहनों पर बेधड़क घूमते नजर आते है।और मन करें वह चालन का ड्रामा करती रहती है,इसमें भी रसूकदार व बडे लोगों का चालन कभी नहीं करती है बल्कि गरीव व कमजोर आदमी को हमेसा दबाने की कोशिस करती है।
यातायात पुलिस की लापरवाही का दूसरा सबसे बड़ा उदाहरण यह है कि,आईएसबीटी के पास राजाराम मोहनराय एकेडमी के सामने बने फलाई ओवर के नीचे से दो पहिया चार पहिया वाहन धड्डले  से उल्टी दिशा में यू टर्न होते है जहां हर समय दुर्धटना होने की आंशका बनी रहती है, लेकिन यातायात पुलिस इसे सही करने के लिए राजी नहीं है,बल्कि पुलिस भी इसी उल्टे यूटर्न से वाहनो से चलती रहती है।यानी कि नियम व कानून का पाठ पढाने वाले ही खुद उनका उलधंन करने लगे तो कौन से नियम और कौन से कानून ?
भानु प्रकाश नेगी,देहरादून।