उडामाण्डा रौता मोटर मार्ग पर पुकलैण्ड(JCP) दुर्धटना ग्रस्त, चालक ने कूद कर बजाई जान

    सिमखोली /पोखरी(चमोली)
   -भानु प्रकाश नेगी
उडामाण्डा रौता मोटर मार्ग पर पुकलैण्ड(जेसीपी) सिमखोली गांव के पास पुस्त टूटने से गहरी खाई में जा गिरी। चालक ने छलांग लगाकर मुस्किल से अपनी जान बचाई। धटना स्थल पर स्थानीय अधिकारियां ने दौरा कर स्थिति का जायजा लिया और उचित कार्यवाही के आदेश दे दिये गये है।


धटना रविवार दिन की है जब पुकलैंण्ड(जेसीपी) क्षेत्र के सड़क मार्ग को दुरस्त कर पोखरी डिविजन के लिए लौट रही थी। सिमखोली गांव पास जंगल में जैसे ही पुकलैण्ड(जेसीपी)पुस्ते से गुजर रही थी अचानक पुस्ता डहने लगा और पल भर में वह गहरी खाई में जा गिरा।दुर्धटना में चालक ने समय रहते सड़क पर कूद कर जान बचाई।

समाजसेवी बिक्रम सिंह नेगी का कहना है कि यह मोटर मार्ग 15 साल पहले बन चुका है,शासन को इस बावत दर्जनों बार लिखित रूप में चौडीकरण व डामरीकरण के लिए पत्र लिखे जा चुके है लेकिन 8 किलामीटर रोड़ उडामाण्डा से सिमखोली गांव के बैण्ड तक) के चौडीकरण और डामरीकरण काम आज तक नही हो पाया है। उन्होनें अभी तक के क्षेत्रीय विधायकों पर घोर अनदेखी व लापरवाही का आरोप लगाया उन्होंने ने आरोप लगाया कि सड़क के चौडीकरण व डामरीकरण न होने के कारण सड़क की स्थित दयनीय बनी हुई है। यहां से गुजरने वाले वाहन व स्थानीय जनता जान हथेली पर लेकर इस मार्ग से गुजरती है, लापरवाही का नतीजा है कि आज पीएमजीएसवाई की पुकलैण्ड(जेसीपी) छतिग्रस्त हो गई है और चालक की जान बाल बाल बची है।


ग्रामीणों ने लगाया क्षेत्रीय विधायक पर अनदेखी का आरोप
सडक के मुख्य मार्ग पर पुस्ता टूटने से दर्जनों गांवो का सम्पर्क मुख्य मार्ग से कट गया है। जिससे ग्रामीणों को दैनिक उपयोग की वस्तुओं के लिए भी दिक्कतों का सामना करना पढ रहा है। वही ग्रामीणों का कहना है कि,क्षेत्रीय विधायक महेन्द्र भट्ट इस इलाके में ढेड साल से गायब है,कई बार फोन करने पर भी क्षेत्र में नही पंहुचते है। ग्रामीणों ने शासन प्रशासन को चेताया कि यदि इस मार्ग पर जल्द पीडब्लूडी के अर्न्तगत आठ किलामीटर के दायरे में डामरीकरण एवं चौडीकरण काम शुरू नही किया गया तो क्षेत्रीय विधायक व शासन प्रसाशन के खिलाप आन्दोलन किया जायेगा। जिसकी सारी जिम्मेदारी शासन और प्रसाशन की होगी।