शिक्षक गम्भीर  बुटोला ने क्यों लगाई डीएम रूद्रप्रयाग से गुहार ।

शिक्षक गम्भीर  बुटोला ने क्यों लगाई डीएम रूद्रप्रयाग से गुहार 
-जखोली मयाली थाना प्रभारी खान ने की शिक्षक गम्भीर बुटोला से अभद्रता।
जब रक्षक ही भक्षक हो जाय तो उस जगह की कानून व्यवस्था को सहज ही समझा जा सकता है। घटना रूद्रप्रयाग जिले के जखोली(मयाली) ब्लाॅक की है जहां पिछले दिनों राजकीय प्राथमिक विद्यालय भण्डार(गोर्ती) में तैनात सहायक शिक्षक गम्भीर सिंह बुटोला की गाडी का चालन दोरागा खान ने कर दिया था। गंभीर सिंह बुटोला का कहना है कि जब राजकीय इंटर काॅलेज जखोली की बीमार छात्रा को अस्पताल दिखाने के लिए ले जा रहा था तभी मैने बाजार में खडे दरोगा खान से पूछा कि आज अबैध पार्किग में खडी गाडियों का चालन क्यों नही हो रहा है जबकि आपने मेरी गाडी का चालन पिछले दिनों यही पर कर दिया गया था नियम सभी के लिए एक है। इतने वह मुझ पर भड़क गये और मेरा  गिरेवान पकड लिया उन्होनें मुझे कहा कि तू मुझे मेरी डयूटी मत बता तूझे में जूते मारूंगा व मां बहिन की गाली की अभद्र गाली दी, गाड़ी का दरवाजा खोल कर मुझे गाडी से खीचकर बाहर किया। इतने में व्यापारियांे व गाडी चालकों ने मुझें बचाया। हिमवंत प्रदेश न्युज से बात चीत में पीड़ित गम्भीर सिंह बुटोला ने  डी एम रूद्रप्रयाग से प्रार्थना पत्र लिखकर दरोगा खान पर उचित कार्यवाही और न्याय की मांग की है।  शिक्षक गम्भीर बुटोला ने बताया कि दरोगा के इस तरह के व्यवहार से वे मानसिक रूप से प्रताडित हुए है जिससे वे काफी परेसान है।
गौरतलब है कि दारोगा खान की पहले भी इस तरह के अभद्र व्यवहार  और कई तहह की संदिग्ध धटनाओं के में लिप्त के लिए लिए पहले भी प्रकाश में आ चुके है। डीएम रूद्रप्रयाग ने जल्द इस प्रकरण पर जल्द कार्यवाही का आश्वासन दिया है। अब देखने वाली वाली बात यह होगी कि शिक्षक गंम्भीर सिंह बुटोला को कब न्याय मिल पाता है।
         -हिमवंत प्रदेश न्युज ब्यूरो