पोखरी नगर पंचायत में कड़के की सर्दी में क्यों चल रही है गरमा-गरमी जाने इस खबर में.

भले ही प्रदेश में नगर निकाय के चुनाव संम्पन्न हो गये हो और निर्वाचित प्रत्यासी अपने अपने जिलों व क्षेत्रों में अपने पदों पर आसीन होकर कामकाज कर रहे हो लेकिन प्रदेश का एक नगर पंचायत क्षेत्र ऐसा भी है जहां नगर पंचायत अध्यक्ष के लिए एक नही दो बार चुनाव कराने पडे है, और अभी भी यह मामला विवादित ही चल रहा है जिसकी कार्यवाही कोर्ट में जारी है,।
चमोली जनपद का नगर पंचायत पोखरी जहां नगर पंचायत अध्यक्ष पर निर्दलीय प्रत्यासी लक्ष्मी प्रसाद पंत ने एक नही दो बार बाजी मारी है। लक्ष्मी प्रसाद पंत नगर पंचायत अध्यक्ष की कुर्सी पर आसीन तो हो गये है, लेकिन कांग्रेस प्रत्यासी जगदीश प्रसाद भट्ट ने उन पर चुनाव आयोग से साक्ष्य छुपा कर गलत तरीके से सपथ पत्र देने का आरोप लगाया है। जगदीश प्रसाद का कहना है कि, मैं स्यंम पोखरी विकासखंड से नगर पंचायत अध्यक्ष का प्रत्यासी था वर्तमान विजयी प्रत्यासी द्वारा 23 सितंबर को नामाकंन किया गया मैने 24 सितंबर को लक्ष्मी प्रसाद के खिलाप रिपार्ट की,इन्होने सपथ पत्र में गलत तथ्य पेस किये है, लेकिन अधिकारियों ने मेरी रिपार्ट पर कोई कार्यवाही नहीं की। चुनाव के बाद चुनाव आयोग में मेरे द्वारा रिपोर्ट की गई जिसकी जांच अभी चल रही है।उन्होंने बताया कि वर्तमान विजयी प्रत्यासी का नगर पंचायत पोखरी में 4/5 में भी चालन हो रखा है,प्राधिकरण के द्वारा भी चालन किया गया है। जगदीश भट्ट ने कहा कि चुनाव आयोग से उचित कार्यवाही न होने पर मै हाईकार्ट मै अपील करूंगा।

वही कांग्रेसी युवा नेता संतोष कुमार चौधरी का कहना है कि, निर्दलीय प्रत्यासी लक्ष्मी प्रसाद पंत द्वारा चुनाव आयोग की शर्ता को पूरा न करते हुए भी नामांकन किया गया है,गलत सपथ पत्र भरा गया चुनाव आयोग ने इसका संज्ञान लेते हुए जिला अधिकारी से जांच के आदेश दे दिये है।

वर्तमान नगर पंचायत अध्यक्ष पोखरी लक्ष्मी प्रसाद पंत का कहना है कि,मेरे द्वारा कोई साक्ष्य नही छुपाये गये है।कांग्रेस पार्टी के प्रत्यासी हार से बौखला गये है, इसलिए मुझ पर गलत आरोप लगा रहे है।कांग्रेस प्रत्यासी जगदीश प्रसाद भट्ट ने मुख्य बाजार में 5मीटर तक अतिक्रमण किया हुआ है। शिकायतकर्ता स्यंम अतिक्रमणकारी है।


पोखरी व्यापार संध अध्यक्ष महिधर प्रसाद पंत का कहना है नगर पंचायत के गठन के पूर्व ही यहां पर अतिक्रमण किया गया था,पूर्व में सरपंच द्वारा अतिक्रमणकारियों के खिलाप कार्यवाही की गई प्रशासन में मुकदमा दर्ज किया गया किसी का 4/5 में और किसी का वन एक्ट के दायरे मे चालन किया गया है,उसके बाद भी लोगों ने जबरन मकान बनाये है।बाद में शहरी विकास मंत्रालय ने एक विज्ञप्ति जारी किया जिसमें उल्लेख किया गया कि जिसका भी नगर पंचायत क्षेत्र में अतिक्रमण होगा वो व्यक्ति चुनाव नहीं लडेगा,जगदीश प्रसाद भट्ट द्वारा वर्तमान नगर पंचायत अध्यक्ष के खिलाप चुनाव आयोग में अपील की गई है,जिसमें गलत सपथ पत्र का हवाला दिया गया है।यह मामला कोर्ट में है।
शिकायतकर्ता व अध्यक्ष नगर पंचायत के बीच आरोप प्रत्यारोप का दौर अभी जारी है और मामले पर अभी जांच चल रही है,लेकिन इतना तय है कि यदि जांच में नगर पंचायत पोखरी अध्यक्ष पर आरोप सही साबिह होते है,तो लक्ष्मी प्रसाद पंत की नगर पंचायत की कुर्सी डगमगा सकती है। या खतरे में पड़ सकती है,अब देखना यह दिलचस्प होगा कि लक्ष्मी प्रसाद पंत अपनी कुर्सी को किस प्रकार बचा पाते है।

   -भानु प्रकाश नेगी,देहरादून