जमकर हो रहा है पाॅलीथीन का प्रयोग नगर निगम व पर्यावरण विभाग मौन

नगर निगम द्वारा जनपद देहरादून को पाॅलीथीन मुक्त करने के लिए कई अभियान चलाये गये जिसमें एक बडी मानव श्रृखला बनाकर बर्ड रिकार्ड बनाने की बात हुई थी। कई जगह छापे मारे से लाखों रूपये के चालन भी किये गयेएलेकिन कुछ समय बाद फिर पाॅलिथीन का जमकर प्रयोग होने लगा है। नगर निगम के अनुसार कोविड 19 संक्रमण के कारण लाॅकडाउन में जरूरतमंदों को भोजन वितरण के लिए पाॅलीथीन के प्रयोग की अनुमति दी गई थी। लेकिन अब अनलाॅक 4 के बाद भी जब स्कूल काॅलेज और सिनेमाहाॅल के अलावा सभी प्रतिष्ठान खोल दिये गये है पाॅलिथीन का प्रयोग जमकर किया जा रहा है। इसे रोकने के लिए न तो नगर निगम काई प्रयास कर रहा है और न ही पर्यावरण विभाग कोई आपत्ति जता रहा है।

पाॅलीथीन मुक्त उत्तराखंड का अभियान चलाने वाले एनजीओ भी आजकल कहीं दिखाई नहीं दे रहे है। और पर्यावरण पर बडी बडी बाते करने वाले पर्यावरणविद् पाॅलिथीन के प्रयोग पर मौन है।
पाॅलीथीन के प्रयोग के कारण पर्यावरण की सेहत लगातार बिगढ़ती जा रही है,जिससे न सिर्फ पर्यावरणीय असंतुलन हो रहा है बल्कि कैन्सर जैसी बीमारी को भी बढावा मिल रहा है। चिकित्सकेां के अनुसार पाॅलिथीन में पैक किये जाने वाले खाने से कैन्सर और शरीर के अनेक खतरनाक रोग उत्पन्न हो सकते है। क्योंकि गर्म भोजन के सम्पर्क में आते ही पाॅलिथीन से अनेक प्रकार के खतरनाक कैमिकल्स भोजन में मिल जाते है।

भानु प्रकाश नेगी, देहरादून