एतिहासिक मौण मेले में उमड़ा जन सैलाब।

नैनबाग:
मोहन थपलियाल


जौनपुर प्रखंड का सुप्रिद्ध ऐतिहासिक राजशाही समय से आयोजित होने वाला मौण मेला धूमधाम सें मनाया गया। जिसमें गॉव में त्यौहार के साथ मध्य रात्री तक जौनपुरी तांदी व रासों पर जमकर थिरकते है।
शनिवार को बिशिष्ट पहचान रखने वाला राजशाही मौण मेला प्रतिवर्ष की तरह बार भी अगलाड़ नदी मे पूजा अर्चना व मौण का तिलक लगाकर ढोल नागड़े के साथ 1 बंजे नदी में डाला गया। मौण नदी में डालते ही हजारो की संख्या में पहुचें लोग नदी में मच्छली पकडने का सिलसिला तेजी से शुरु हुआ। जैसे जैसे नदी में मौण आगे बढ़ता वैसे वैसे लोग दौडते हुए नदी में मच्छली पकडने लगते ।

जो कि लगभग 4 किमी नदी में यह दौर चलता है।
इस मौण मेले में क्षेत्र के 114 गांव सहित आस पास के जौनसार,गोडर ,पालीताड के ग्रामीण भारी उत्साह व उमंग के साथ नदी में मछली पकड़ने को शिरकत करते है ।
प्राकृतिक जड़ी बूटी में टिमरू पेड की बाहर की छाल को निकालकर सूखाए जाने के बाद बारीक पाउडर बनाया जाता है । इसी टिमरू पाऊड़र को मौण को नदी में डाला जाता है।


इस बार नदी में मौण डालने की बार पट्टी अठाज्यूला के 8 गॉव मि लोगों की थी। जिसमें प्रत्येक गांव से लगभग 40 से 50 कुन्टल टिमारु पाऊण्डर उपयोग में लाया गया था।
मुख्य बात यह है कि नदी में टिमरू का पाउडर डालने से मछलीयां घायल हो जाती है जिसको ग्रामीण आसानी से पकड़ में जाती है। और कुछ घंटों देर बाद मच्छली अपनी पहले की स्थती व हरकत में आ जाती, और कोई हांनी नही होती।
नदी में स्थानीय संसाधन में कुंडिवाला ,फटियाडा, जाल, फांड , कुंडली आदि उपकरणों को प्रयोग में लाए जाने वाला सबसे अधिक मच्छती पकड़ में आती है। साथ ही शांहकारी लोग भी बढ़-चढ़कर हिस्सा लेते है।
मौण मेला त्यौहार आज तक भी आपसी भाईचारे व एकता का प्रतीक है। जो मो बीना सुरक्षा व्यवस्था के साथ कई दशकों से हर्ष उल्लास के साथ संचालित होता आ रहा है ।


एक त्यौहार के रूप में मनाया जाता रात्री को गॉव ग्रामीण कच्ची व मच्छली का जमकर आन्दन के जौनपुरी लोक संस्कृती के साथ ग्रामीण झूमते है।
नदी में कुछ शरारती तत्वतों द्वारा ब्लीचिंग पाउडर व ब्लास्टिंग का प्रयोग करने पर नदी में मच्छली बहुत हाथ लगी। जब नदी में इस पर पूर्ण रूप से प्रतिबंध होने पर समिती व ग्रामीण रोष व्यक्त कर शासन प्रशासन ऐसे शरारती लोगों के प्रति सक्त कार्यवाहा की मांग की है।
इस मौके आन्दन सिंह तोमर,
रणवीर सिंह,सरदार सिंह रावत, कांग्रेस उनिल सिंह कैन्तुरा
आन्दन सिंह सजवाण,
रणवीर सिंह ,दिनेश रावत,बिकम सिंह सजवाण,केन्या राणा,सुभाष सेमवाल,रमेश सिंह,शरण सिंह पेवार,विरेन्द्र बहुणुणा,आदि लोग उपस्थित थे।