जरूरतमंद बच्चों के लिए खोला आधुनिक शिक्षा का स्कूल।माता मंगला व भोले जी महाराज ने पेश की मिसाल।

जरूरतमंद एवं गरीब बच्चों के उज्ज्वल भविष्य के माता मंगलाजी एवं भोलेजी महाराज ने खोला स्कूल
_______________________
देश भर में स्वास्थ्य-शिक्षा के पटल पर निस्वार्थ भावना से कार्य कर रहे माता मंगला जी एवं भोलेजी महाराज के आशीर्वाद से उत्तराखंड के टीहरी गढ़वाल के ग्राम काण्डी कलों की, कैंपटी में जरूरतमंद एवं गरीब बच्चों के उज्ज्वल भविष्य के लिए राजेश्वरी करुणा स्कूल खुलने जा रहा है। जिसके माध्यम से शिक्षा के क्षेत्र में किन कारणों से पिछड़ रहे जरूरतमंद एवं गरीब बच्चों के भविष्य का निर्माण ही नहीं होगा अपितु रोजगार प्रदान करने एवं पलायन रोकने की दिशा में भी महत्वपूर्ण भूमिका निभाएगा।

राजेश्वरी करुणा स्कूल में शिक्षकों को रोजगार उपलब्ध कराने के लिए साक्षात्कार लेने में पहुंचे हंस कल्चर सेंटर के सचिव चंदन सिंह भंडारी जी ने बताया कि माताश्री मंगलाजी एवं भोलेजी महाराज का उद्देश्य उत्तराखंड ही नहीं बल्कि पूरे भारत में शिक्षा के स्तर में सुधार लाने का है। जिसके लिए वह निरंतर प्रयासरत है आज इसी कड़ी में राजेश्वरी करुणा स्कूल में अध्यापकों के चयन के लिए शुरुआत हुई हैं। हमारा उद्देश्य यहाँ शिक्षा के क्षेत्र में नयी सोच को स्थापित करना ही नहीं बल्कि ऐसे शिक्षकों का चयन करना भी है। जो इन जरूरतमंद एवं गरीब बच्चों के भविष्य को नई दिशा दे सके। जिसके लिए आज यह साक्षात्कार लिए जा रहे हैं।
श्री भंडारी जी की बताया कि इस स्कूल में पढ़ने वाले बच्चों को निःशुल्क शिक्षित किया जाएगा। स्कूल ड्रेस और किताबें मुफ्त प्रदान की जाएगी। बच्चों के स्कूल आवागमन के लिए स्कूल बस की व्यवस्था भी होगी। श्री भंडारी ने आगे बताया कि राजेश्वरी करुणा स्कूल अंग्रेजी माध्यम में होगा, जो कि अप्रैल 2018 से शुरू हो जाएगा, जिसमें प्रथम चरण में नर्सरी से कक्षा आठ तक कक्षाएं संचालित होने लगेंगी।उन्होंने बताया कि माताश्री मंगलाजी एवं भोलेजी महाराज पहाड़ के दूर-दराज के क्षेत्रों में सिर्फ शिक्षा के स्तर में ही सुधार नहीं ला रहे बल्कि जरूरतमंद को रोजगार के अवसर उपलब्ध करा कर पहाड़ से पलायन रोकने की दिशा में भी महत्वपूर्ण भूमिका निभा रहे हैं।
इस मौके पर संस्था के मुख्य सलाहकार सव्रर रज़ा ने कहा कि समाजसेवी माताश्री मंगलाजी एवं भोलेजी महाराज जिस तरह निरंतर समाज हित में कार्य कर रहे हैं। यह निश्चित तौर हम सबके लिए प्रेरक है। आज इस दिशा में राजेश्वरी करुणा स्कूल की शुरुआत हुई हैं। जिसके माध्यम से जरूरतमंद बच्चों के भविष्य निर्माण में नयी दिशा बनेगी साथ हैं यहाँ के लोगों को अपने घर में रोजगार मिलेगा और पलायनवादी सोच को विराम, जो माताजी-महाराजी का सपना भी है।
इस मौके पर राजेश्वरी करुणा स्कूल की प्रधानाचार्य नीता रावत जी ने कहा कि आज हमारे क्षेत्र के लिए गर्व की बात है कि हमारे क्षेत्र के गरीब एवं जरूरतमंदों बच्चों को शिक्षार्था के लिए नयी दिशा मिल रही हैं। साथ ही इन बच्चों को शिक्षित करने के लिए ऐसे अध्यापक जो इनके भविष्य निर्माण में महत्वपूर्ण योगदान देने वाले हैं। इस सम्मानित कार्य के लिए हमारे क्षेत्र की जनता माताश्री मंगलाजी एवं भोलेजी महाराज के आभारी हैं कि उन्होंने शिक्षा-रोजगार देने और पलायन रोकने के लिए हमारे क्षेत्र का विशेष तौर पर पर चुनाव किया।
इस मौके पर हंस कल्चर सेंटर के प्रतिनिधि दिनेश कंडारी जी ने राजेश्वरी करुणा स्कूल में शिक्षा प्रदान करने आए अध्यापकों एवं अन्य गणमान्य लोगों का आभार प्रकट किया।
जगमोहन ‘आज़ाद’