मासूम का बलत्कारी एक और दरिंदा

दून पुलिस नैनीताल हाईकोर्ट के फैसले को अब सुप्रीम कोर्ट में चेलेंज करने जा रही है…जिसके लिए पुलिस को शासन ने अनुमति दे दी है…और अब दून पुलिस सुप्रीमकोर्ट में जल्द एस एल पी दाखिल करने जा रही है…दरअसल, साल 2017 में ऋषिकेश में एक दिल दहलाने वाली वारदात देखने को मिली थी…जिसमे 9 साल की मासूम के साथ बलात्कार के बाद उसको और उसकी 6 साल की छोटी मासूम बहिन की निर्मम हत्या कर डी गयी थी…जिसपर पुलिस जांच में दोषी पाते हुए गुरूद्वारे के सेवादार परवान सिंह को 14 गवाहों और डीएनए रिपोर्ट के आधार पर कोर्ट में पेश किया था….जिसमे साक्ष्यों के तहत दून के पोक्शो कोर्ट ने सेवादार को दोषी पाया और 24 अगस्त 2018 को फांसी की सजा सुनाई थी…फोक्सो कोर्ट के इस फैसले को चेलेंज करते हुए सेवादार परवान सिंह ने  हाईकोर्ट में याचिका दाखिल की जिसपर हाईकोर्ट ने सुनवाई करते हुए सेवादार दोषी न पाते हुए बरी कर दिया…जिसपर अब दून पुलिस सुप्रीम कोर्ट में एस एल पी दर्ज करने जा रही है