चिन्ताजनक:दून में बड़ा महिला उत्पीड़न का ग्राफ।

महिला उत्पीड़न में देहरादून का बढ़ता ग्राफ.

महिला आयोग ने जताई चिन्ता

देहरादून-कभी शांत आवोहवा,स्वच्छ वातावरण एवं शिक्षा के लिए विख्यात देहरादून की आवोहवा पर धीरे धीरे ग्रहण लगता जा रहा है। पहाड़ी जिलों से लगातार हो रहे पलायन से देहरादून सहित अन्य मैदानी जिलों में अपराध बढते जा रहे है।देहरादून में बढ़ते महिला उत्पीड़न के मामले चिन्ता का सबब बने हुए है। विभागीय आंकड़ों के अनुसार अभी तक 467से अधिक मामले रिकार्ड किये जा चुके है। जबकि रूद्रप्रयाग जिले में सबसे कम चार मामले सामने आये है।
गौरतलब है कि उत्तराखंड में अभी तक कुल 1986 मामले महिला आयोग में दर्ज हुए है। जिनमें 590 ऐसे मामले है जिन पर अभी काम चल रहा है। राज्य की अस्थाई राजधानी देहरादून पर लगातार जनसंख्या दबाब बढता जा रहा है।ऐसे में चोरी,हत्या,बलात्कार समेत महिला उत्पीड़न के मामलों में इजाफा होना पुलिस व राज्य सरकारों के लिए भी चुनौती बनी है।


जिला कुल  केश   निस्तारित  कार्यवाही गतिमान


अल्मोड़ा- 26     12   14


बागेश्वर- 7     2      5


चमोली- 25    10    15


चंपावत- 23    12    11


देहरादून- 467     242    225


हरिद्वार- 271    120    151


नैनीताल- 94     40     54


पौड़ी- 87 18 69


पिथौरागढ़- 28    15     13


रुद्रप्रयाग- 4    4    0


टिहरी- 28    16    12


उधमसिंहनगर- 247     70     177


उत्तरकाशी- 13    5     8


अन्य प्रदेश- 66   24    42


कुल योग- 1386   590    796