कोरोनेसन अस्पताल की बढ़ती मुसीबतें

भानु प्रकाश नेगी,देहरादून


वर्तमान समय में कोरोना संक्रमण के कारण प्रदेश के अस्पतालों में दूसरी बीमारियों के लिए काई खास व्यवस्था नहीं है।वही शहर के जिला अस्पताल में सुमार पण्डित दीनदयाल उपाध्याय कोरोनेसन अस्पताल में पूरे प्रदेशभर से हर प्रकार के रोगी पंहुच रहे है। अस्पताल में सबसे बडी परेसानियों शल्य चिकित्सा को लेकर चल रही है। अस्पताल के डॉक्टरों का कहना है। मरीजों की सर्जरी तो हो जाती है लेकिन इमरजेंसी में मरीजों को आईसीयू की आवश्यकता होती है।

कोरोनशन अस्पताल में आई सीयू न होने के कारण मरीजों की जान खतरे में रहती है। जिससे डॉक्टरों पर मानसिक दबाव होता है। अगर किसी मरीज को कुछ हो जाता है तो डॉक्टर की जान पर बन आती है उपर से मारपीट कोर्ट कचहरी के मामले हो जाते है। कम से कम पॉच से लेकर दस बेडों का आईसीयू हो जाय तो गरीब और जरूरतमंद मरीजों के इलाज करने में आसानी हो जायेगी। हॉलाकि कोरोनेसन अस्पताल में ही जिला अस्पताल का कार्य निर्माणाधीन है।जिसमें आईसीयू सहित लगभग सभी प्रकार की अत्याधुनिक सविधायें मौजूद रहेगी।लेकिन इससे तैयार होने में अभी काफी वक्त लग सकता है। तब तक वर्तमान आपातकाल की स्थिति को देखते हुए आईसीयू की व्यवस्था होना अति आवश्यक है।