माओवादी खीम सिंह बोरा को उ0प्र0 एटीएस द्वारा गिरफ्तार

अशोक कुमार, महानिदेशक, अपराध एवं कानून व्यवस्था, उत्तराखण्ड ने बताया कि उत्तराखण्ड के 50 हजार के ईनामी माओवादी खीम सिंह बोरा को उ0प्र0 एटीएस द्वारा कल बरेली से गिरफ्तार किया गया है, जिससे पूछताछ हेतु जनपद उधमसिंहनगर से नागरिक पुलिस एवं अभिसूचना विभाग की एक संयुक्त टीम उ0प्र0 भेजी जायेगी।


खीम सिंह बोरा का अपराधिक इतिहास निम्नवत है।
खीम सिंह बोरा
(फरार अभियुक्त – ईनाम घोषित-रु0 50 हजार)
नाम/उपनाम – खीम सिंह बोरा प्रभाकर उर्फ दिवाकर
पिता का नाम – पूरन सिंह बोरा
जाति/धर्म – हिन्दू (राजपूत)
पता – ग्राम प्राईमरी पाठशाला के पीछे सोमेश्वर, जनपद अल्मोड़ा


आराधिक विवरण
थाना नानकमत्ता, ऊधमसिंहनगर मु0अ0सं0 709/04, धारा-121/121ए/124ए/120बी भादवि।

👉 थाना नानकमत्ता, ऊधमसिंहनगर मु0अ0सं0 3222/07, धारा 121/121ए/120ए/120बी/153बी भादवि, व 10/20 विधि विरुद्ध क्रियाकलाप (निवारण) अधि0।

👉 पटवारी क्षेत्र सरना तहसील धारी, नैनीताल मु0अ0सं0 05/17, धारा-3(1) लोक सम्पत्ति विरुपण अधि0, धारा 10/20 विधि विरुद्ध क्रियाकलाप अधि0, 127 लोक प्रतिनिधित्व अधि0, धारा 436 भादवि।

👉 थाना सोमेश्वर, अल्मोड़ा मु0अ0सं0 05/17 धारा 10/20 विधि विरुद्ध क्रियाकलाप (निवारण) अधि0, 127 (क) लोक प्रतिनिधित्व अधि0। धारा 3(1) लोक सम्पत्ति विरुपण अधि0, 127 लोक प्रतिनिधित्व अधि0।

थाना द्वाराहाट, अल्मोड़ा, मु0अ0सं0 10/17 धारा-3(1) उत्तराखण्ड लोक सम्पत्ति विरुपण अधि0, धारा 10/20 विधि विरुद्ध क्रियाकलाप (निवारण) अधि0, 127 (क) लोक प्रतिनिधित्व अधि0।


संक्षिप्त इतिहास
हाईस्कूल व इण्टर की परीक्षा सोमेश्वर से उर्त्तीण की गयी तथा स्नातक एसएसजे परिसर, अल्मोड़ा से किया गया। वर्ष 1984 में शराब बन्दी को लेकर बौरारी घाटी में संघर्ष समिति सोमेश्वर के बैनर तले आन्दोलन में सक्रिय था। वर्ष 1990-91 में मन्नु महारानी होटल नैनीताल में नौकरी की तथा नैनीताल समाचर में सम्पादक का कार्य भी किया, गुटबाजी के कारण होटल से निकाल दिया गया। बाद में सोमेश्वर में ही चाय की दुकान चलाने लगा। वर्ष 2008 में माओवादी अभियुक्तों से पूछताछ में खीम सिंह बोरा का “सचिव, जोनल कमेटी उत्तराखण्ड” होना ज्ञात हुआ। वर्ष 2014 से वर्ष 2017 तक कुमांयू परिक्षेत्रान्तर्गत सीपीआई माओवादी के नाम से वॉल राईटिंग, पर्चा, पम्पलेट चिपकाये जाने की घटनाऐं घटित हुई थी, पर्चों में विजय पहरु-सचिव उत्तराखण्ड जोनल कमेटी सीपीआई माओवीदी का नाम अंकित था जो खीम सिंह बोरा होना ज्ञात हुआ है। अपर सचिव उत्तराखम्ड शासन के पत्रांक 242/XX-3-2017-07(12)2017 दिनांक 19-04-2017 के द्वारा वांछित/फरार अभियुक्त खीम सिंह बोरा पर रु0 50,000 का ईनाम घोषित है।