CM त्रिवेन्द्र सिंह रावत पर पहली पुस्तक “खैरासैंण का सूरज ” में क्या है खास ???

*खैरासैंण का सूरज* पुस्तक का 20 दिसम्बर को लखनऊ में सीएस योगी आदित्यनाथ करेगें विमोचन।

-21 दिसंबर को देहरादून में होगा लोकापर्ण।

*खैरासैंण का सूरज* मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत के सरल-तरल पहाड़ीपन को आधार बनाकर लिखी गई उत्तराखंड की सियासत की बाईबिल है।इस पुस्तक में उत्तराखंड बनने से लेकर सालभर चलने वाली उत्तराखंड की सियासी शीतलहर का वर्णन है।बार-बार मुख्यमंत्री बदले जाने से खफा और दुखी पहाडी अन्र्तमन की आवाज है। पिछली सरकार के सीडी कांड में जिस तरह खुलेआम पहाडों को बेचे जाने का जिक्र था उससे उपजे क्षोभ का मार्मिक चित्रण है।


इस पुस्तक में मोदी के स्वच्छता अभियान का बहुत ही आश्चर्यजनक बैज्ञानिक चित्रण भी प्रस्तुत किया गया है। वही आरएसएस एवं बीजेपी को एक अलग ही रंग के परिदृश्य में रखा गया है।पलायन से पीड़ित एक व्यक्ति की चिट्टी भी इस किताब में संकलित है।तो पहाड में डाॅक्टर कैसे चढे उस पर विस्तार से परिशिष्ट लिखा गया हंै।
इस पुस्तक का भाग- दो मार्च में त्रिवेन्द्र सरकार के एक वर्ष पूर्ण होने के उपलक्ष में प्रकाशित होगी। इस भाग में राजनीति का एक अलग ही दर्शन प्रस्तुत किया गया है और उसका र्शीषक रखा गया है *मूल की नही फूल की सियासत*।