खतरों के खिलाड़ी सिचाई विभाग के कर्मचारी

सिंचाई विभाग के आवासीय भवन पूरी तरीके से जीनसीन स्थिति में है जिसकी सुद लेना वाला कोई नहीं है, लोग टूटे भवनों में ही रहने को मजबूर हो रखे है ।

तस्वीरो मे आप जिन भवनों को देख रहे है वह भवन कोई आम भवन नहीं है बल्कि सिंचाई विभाग का आवासीय भवन है, जिन भवनों की दशा पूरी तरीके से जीनसीन स्थिति में है , कभी भी इन भवनो मे बड़ा हादसा हो सकता है , लेकिन फिर भी सिंचाई विभाग के कर्मचारी वहां पर रहने के लिए मजबूर हो रखे है , हांलाकि सिचाई विभाग के द्वारा वहां रहने वाले परिवारो को आवास छोड़ने के नोटिश तो दिये गये है लेकिन बावजूद इसके अभी भी वहां पर परिवार रह रहे है । वहां पर रहने वाले लोगो की माने तो विभाग आवास पर कोई काम ही नहीं करना चाहता है ।

सिंचाई विभाग के अधीक्षण अभियंता की माने तो पिछले कई सालो मे कई मकानो का रिपेयरिंग की गई थी जिसमे शासन के द्वारा भी बजट दिया गया था लेकिन जे जीनसीन भवनों मे रह रहे है उन्हे खाली करने के निर्देश दिये गये है।

सिंचाई विभाग के द्वारा आवासीय भवनो मे रहने वालो को लिए भले ही खाली करने के निर्देश दिये गये हों लेकिन बावजूद उसके ऐसे ही वहां लोग रह रहे है जिसे देखने वाला कोई नहीं है, जिससे बडी घटना भी हो सकती है । ऐसे में विभाग को जल्द ही कड़ी कार्यवाही करनी होगी।