फर्जी दस्तखत कर जमीन हड़पने पर कारवाही ने होने से कास्तकार ने लगाया डी.एम रुद्रप्रयाग और शासन पर घोर लापरवाही का आरोप।