कार्तिक स्वामी क्रौंच पर्वत के लिए रवाना

 

शुक्ल त्रयोदशी को प्रातः ब्रह्म मुहूर्त्त में विधि-विधान से पूजा-अर्चना के उपरांत खुरड़ गाँव स्थित देवसेनानी कुमार कार्तिकेय की भव्य देवरा-यात्रा क्रौंच पर्वत के लिए आरम्भ हुई। वेद मंत्रोच्चारों के बीच बड़ी संख्या में उपस्थित श्रद्धालुओं ने कार्तिक स्वामी के जयकारों के साथ 35 किमी की पद-यात्रा आरम्भ की। इस अवसर पर बुटोलाओं के कुलपुरोहित पं. सुभाष चंद्र चौकियाल, पं. राजीव चौकियाल, पं. मनोज चमोली के साथ खुरड़, बेला, सौड़, गंधारी, चापड़, रुद्रप्रयाग तथा समीपवर्ती अन्य गाँवों के लोग बड़ी संख्या में उपस्थित थे। 


देवरा यात्रा खैड़धार, सतेराखाल, थलासू, दुर्गाधार, चोपता, खड़पतियाखाल, घिमतोली, कनकचौंरी होते हुए बाड़ाखाल पहुँचेगी, जहाँ यात्री रात्रि विश्रम करेंगे। कल प्रातःकाल कार्तिक स्वामी मंदिर में पूजा-अर्चना के पश्चात वापसी के लिए प्रस्थान करेंगे। यात्रा में बड़ी संख्या में बच्चे व महिलाएं भी शामिल हैं।