जखोली में भ्रष्टाचार की भेंट चड़ा सिलाई केन्द्र, ग्रामीणों ने लगाये विकासखंड़ पर गम्भीर आरोप।

जखोली बिकासखंड के अन्तर्गत सिद्धासौड़ बड़मा मे वर्ष 2009-10 मे विधायक निधि से कुरछोला,मुन्नादेवल,जखनोली,
बड़मा,डगवालगाॅव तथा धरियांज इन छः गाँवो के लिए महिलाओ के प्रशिक्षण सिलाई कताई बुनाई के लिए भवन निमार्ण हेतु 2 लाख रू स्वीकृत किये गये थे। कार्यदायी संस्था विकासखंड जखोली की  देख- रेख मे इस भवन का निर्माण किया जाना था।  आठ वर्ष बीत जाने के बावजूद भी भी आज तक यह महिला प्रशिक्षण केंद्र का भवन आधा अधूरा  पड़ा है।क्षेत्र वासियों का कहना है कि आखिरकार इस भवन का निर्माण कार्य पूरा क्यो नही करवाया गया।इससे ये प्रतीत होता कि बिकासखंड कार्यालय के द्वारा सरकारी धन को ठिकाने लगाया गया है इतने सालो से भवन निमार्ण के का काम पूरा न होना एक सवाल खड़ा करता है।
वर्षो से ग्रामीणों की उम्मीद जगी थी कि महिलाओं को इस केंद्र मे प्रशिक्षण दे कर महिलाये अपने स्वयं के रोजगार से अपने आय का संसाधन जुटाने मे संक्षम हों
लेकिन यह सपना ही रह गया।
ग्रामीण वचन सिंह नेगी,गोविंद सिंह पंवार,राकेश सिंह पंवार,भगवान सिंह,बालक सिंह,आदि का कहना है कि इस अधूरे भवन को पूरा करवाने हेतु क्षेत्रीय विधायक
भरत चौधरी व केबिनेट मंत्री हरक सिंह रावत से भी गुहार लगायी गयी थी।लेकिन किसी ने भी ग्रामीणों की बात नही सुनी।लोगों का कहना है कि क्या विकास कार्यो पर लगने वाली धनराशि को अधिकारी व कर्मचारी इसी प्रकार से ठिकाने लगायेंगे।महिलाओं के लिये सिलाई बुनाई के लिये बनाये जाने वाले प्रशिक्षण भवन को अधूरा ही छोड़े जाने का क्या कारण है।

ये बात ग्रामीणों के गले नही उतर पा रही है ग्रामीणों ने चेतावनी दी है कि यदि विधायक निधि से स्वीकृत अधूरे भवन को यथाशीघ्र पूरा नही करवाया गया तो समस्त क्षेत्रवासियो के द्वारा जखोली तहसील पर धरना प्रदर्शन किया जायेगा।

-रामरतन पंवार जखोली