16 वीं राष्ट्रीय आईस फिगर स्केटिंग प्रतियोगिता वर्ष 2019 में चमके कई खिलाड़ी।

 

16 वीं राष्ट्रीय आईस फिगर स्केटिंग प्रतियोगिता वर्ष 2019 में आईस स्केटिंग एसोसिएशन आॅफ उत्तराखण्ड र्के िसतारे
16 वीं राष्ट्रीय आईस फिगर स्केटिंग प्रतियोगिता वर्ष 2019में आईस स्केटिंग एसोसिएशन आॅफ उत्तराखण्ड की ओर से 12 खिलाड़ियों ने प्रतिभाग कर 12 मेडल हासिल कर राज्य के फिगर स्केटिंग खिलाड़ियों ने उम्मीद से कई अच्छा प्रर्दशन किया है। 29 से 30 अगस्त 2019 गुरूग्राम में आयोजित 16 वीं राष्ट्रीय फिगर स्केटिंग प्रतियोगिता में भाग लेने गये आईस स्केटिंग एसोसिएशन आॅफ उत्तराखण्ड के खिलाडी जीत दर्ज कर वापस लौटे।

जीत दर्ज करते हुवे राज्य के फिगर स्केटिंग खिलाड़ियों ने उत्तराखण्ड में इस खेल के मैदान के बगैर ही 12 मेडल राज्य की झोली में डालकर मैदान मारा। ईन खिलाड़ियों के प्रयासो को साझा करने के लिये यह प्रेस वार्ता का आयोजन किया गया है।

ज्ञातव्य हो कि आईस स्केटिंग एसोसिएशन आॅफ इण्डिया के तत्वाधान में गुरूग्राम में आयोजित हुई 16 वीं राष्ट्रीय फिगर स्केटिंग प्रतियोगिता के लिये आईस स्केटिंग एसोसिएशन आॅफ उत्तराखण्ड की ओर से फिगर स्केटिंग के 16 खिलाड़ियों का चयन किया गया था । वहा राष्ट्रीय प्रतियोगिता में 11 खिलाडियो ने अपनी प्रतीभा का लोहा मनवाते हुये 12 मेडल राज्य की झोली में डाले।
आईस स्केटिंग एसोसिएशन आॅफ उत्तराखण्ड की ओर से सभीं खिलाडियो ने फिगर स्केटिंग की सोलो और सिंक्रोनाइज स्केटिंग के अपने आयु वर्ग और स्र्पधायों में भाग लिया और देशभर के तकरीबन 110 खिलाड़ियों के बीच टक्कर लेते हुये जीत दर्ज कर राज्य का नाम रोशन किया । जहा आर्दश रावत ने अपने सोलो वर्ग में प्रथम स्थान, अपूर्वा सिंह और तनिष्का सिंह ने दिृतीय स्थान बनाकर अपना और

आईस स्केंटिंग एसोसिएशन आॅफ उत्तराखण्ड का नाम रोशन किया वहीं क्रमशः अनुष्का शमार्, सम्रद्धि तिवारी, युवराज गुलाटी, आर्दश रावत, एश्वर्या प्रभा सिंह, तनिष्का सिंह, यश्शवी सिंह, अपूर्वा सिंह और आर्यन विश्वकर्मा ने सिंक्रोनाइज स्केटिंग में तृतीय स्थान बनाकर राज्य का नाम रोशन किया । उत्तराखण्ड देशभर के खिलाड़ियों के बीच तृतीय स्थान बनाकर मैदान मारा ।
राज्य टीम के मनेजर कृष्णा तिवारी और टीम के सिंक्रोनाइज कोच शालू गुलाटी के साथ राष्ट्रीय फिगर स्केटिंग प्रतियोगिता में भाग लेकर लौटे राज्य के खिलाडियों को बधाई देते हुये आईस स्केटिंग एसोसिएशन आॅफ उत्तराखण्ड के अध्यक्ष  शिव पैन्यूली ने बताया कि आईस स्केटिंग एसोसिएशन आॅफ इण्डिया की ओर से गुरूग्राम के आईस रिंक में आयोजित इस प्रतियोगिता के अन्तर्गत राज्य एसोसिएशन से भेजे गये खिलाड़ियों ने उम्मीद से कई अच्छा प्रर्दशन किया है। उन्होंने कहा कि देशभर के उम्दा खिलाड़ियों के बीच टक्कर लेते हुये राज्य के इन खिलाड़ियों ने उत्तराखण्ड में इस खेल के मैदान के बगैर ही मैदान मार लिया है। इसके लिये वे विशेष शाबाशी के हकदार है।
उन्होंने कहा कि राज्य के युवाओं में इस खेल के प्रति जो आकर्षण है उसी की वजह से आज राज्य में श्रैय, निष्ठा, हर्षिता और अस्तित्व जैसे अन्तराष्ट्रीय स्तर के खिलाड़ी हमारे पास है और इन्हीं से प्रेरणा पाकर राज्य के युवा इस खेल की ओर बड़ी तादाद में आकर्षित हो रहे है और राष्ट्रीय मंच पर अच्छा प्रर्दशन कर रहे है। आज राज्य में हमारे पास 6 अन्तराष्ट्रीय और 52 राष्ट्रीय स्तर के मेडल है।
उन्होंने बतलाया कि राजधानी देहरादून में एशिया क्षेत्र का सबसे बड़ा और अन्तराष्ट्रीय स्तर का आईस रिंक होने के बावजूद यह यहां के खिलाड़ियों को इसका लाभ नहीं मिल पा रहा है, फिर भी खिलाड़ी राष्ट्रीय, अन्तराष्ट्रीय स्तर पर पदक हासिल कर देश और राज्य का नाम रोशन कर रहे है।
उन्होंने आशा व्यक्त क़ी कि यदि उत्तराखण्ड सरकार स्पोर्टस कालेज स्थित आईस स्केटिंग रिंक को शीघ्र खुलवाकर इन खिलाड़ियों को निशुल्क खेल सुविधायें प्रदान करवा दे ंतो निश्चय ही हमारे खिलाड़ी अन्तराष्ट्रीय खेल स्प्रधाओं में चमक पैदा करने की क्षमता रखते है और राज्य के लिये मेडल लाने में सक्षम है। उन्होंने बतलाया कि रिंक खुलवाने बाबत कई बार राज्य के मुख्यमंत्री, खेलमंत्री और मुख्य सचिव से निवेदन किया जा चुका है।
प्रेस वार्ता के समय संस्था के वरिष्ठ सदस्य सिगहारा सिंह, विष्णु पैन्यूली, रूपचन्द आदि मौजूद रहें।
सुरेश भट्ट