इन्वेस्टर्स मीट से बदलेगी उत्तराखंड की तस्वीर-डाॅ. के. एस. पंवार

CM के औद्योगिक सलाहकार बोले- इन्वेस्टर्स मीट से बदलेगी उत्तराखंड की तस्वीर

उत्तराखंड सरकार अक्टूबर माह के पहले हफ्ते में प्रस्तावित इन्वेस्टर्स मीट की तैयारियों में जोर-शोर से जुटी हुई है. जिससे निवेशकों को आकर्षित किया जा सके. वहीं मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत के औद्योगिक सलाहकार डाॅ के एस पंवार ने बताया कि इन्वेस्टर मीट से उत्तराखंड की सूरत बदलने में कामियाब रहेगा. साथ ही उन्होंने कहा कि सरकार को जितनी उम्मीद थी उससे ज्यादा इन्वेस्टर्स आ रहे हैं. जिससे आने वाले दिनों में सूबे की तकदीर और तस्वीर बदलेगी.
उत्तराखंड के मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत के औद्योगिक सलाहकार डाॅ के एस पंवार नेhimwantpradeshnews से तैयारियों के बारे में खुल कर बात की. इस दौरान एस पंवार ने बताया कि सरकार ने इन्वेस्टर मीट की सारी तैयारियां पूरी कर ली हैं. उन्होंने कहा कि सरकार को जितनी उम्मीद थी उससे ज्यादा इन्वेस्टर्स आ रहे हैं. उन्होंने कहा की सरकार को पहले 50 हजार करोड़ रूपये का ही अनुमान था लेकिन अब तक लगभग 70 हजार करोड़ रूपये से ज्यादा के इन्वेस्टर्स ने निवेश करने की इच्छा जाहिर की है.
डाॅ के एस पंवार ने कहा कि ये उत्तराखंड के लिए बड़ी बात है कि देश के बड़े औद्योगिक घराने उत्तराखंड में आने के लिए आतुर हैं. बातचीत के दौरान के डाॅ. पंवार ने कहा की अब तक प्रदेश के तराई के इलाको में ही इंडस्ट्री लगती रही हैं, लेकिन अब पर्वतीय क्षेत्रों की सूरत बदलने के लिए इन्वेस्टर मीट कार्यक्रम किया जा रहा है. जिससे पहाड़ों में बड़े उद्योग स्थापित हो सकें. जिसके लिए इन्वेस्टर्स निवेश करने के लिए तैयार हैं. साथ ही उन्होंने कहा कि ऑल वेदर रोड से पर्वतीय क्षेत्रों को जोड़ा जा रहा है. जिसका सीधा फायदा लोगों को मिलेगा.
अडानी और अंबानी करेंगे बड़ा निवेश उन्होंने कहा की हम पहाड़ों को अब उत्तराखंड का स्विट्जरलैंड बनाना चाहते हैं, इसके लिए पहाड़ों में सभी सुविधाएं मुहैया कराई जा रही है. इतना ही नहीं बड़े ग्रुप 1 हजार करोड़ रूपये का इन्वेस्ट कर रहे हैं, जिसमे अडानी ग्रुप ने लगभग 5 सो करोड़ रूपये का इन्वेस्ट करने के लिए एमओयू साइन भी कर लिया है. इसमें अभी और इन्वेस्ट के एमओयू साइन होंगे सबसे अच्छी बात ये है की सभी ने 5 और 10 सालों के लिए एमओयू साइन किये हैं. उन्होंने कहा कि इन्वेस्टर मीट में पीएम मोदी के अलावा रवि शंकर प्रसाद,नितिन गडगरी, पियूस गोयल,स्मृति ईरानी के साथ- साथ कई नेता मौजूद रहेंगे.