भारतीय सेना को मिले 333 सैन्य अधिकारी

देहरादून-भारतीय सैन्य अकादमी देहरादून में पासिंग आउट परेड का आयोजन किया गया जिसमें 423 जैंटलमैन कैडेट पास आउट होकर लेफ्टिनेंट बन चुके हैं। 423 में से हिंदुस्तानी सेना को 333 नए अधिकारी मिल रहे हैं जबकी बाकी के 90 अधिकारी मित्र देशों के हैं. भारतीय सेना को आज 333 नए अफसर मिल गए हैं. आईएमए परेड और पीपीईंग सैरमनी के बाद सभी भारतीय सेना के अभिन्न अंग बन गए. इसबार परेड़ की सलामी बतौर रिव्यू ऑफिसर थल सेना अध्यक्ष जनरल मनोज मुकुंद नरवाने ने ली।

इस दौरान जोश और जज्बे के साथ सभी जैंटलमैन कैडेटों ने बेहतरीन परेड का प्रदर्शन किया वही अंतिम पग पार करते हुए पीपिंग सेरेमनी में शिरकत की हालांकि इस बार कोविड-19 के प्रकोप को देखते हुए जेंटलमैन कैडेटों के अंतिम पग को पार करते हुए हेलीकॉप्टरों के जरिए पुष्प वर्षा भी नहीं की गई है और ना ही अभिभावकों की ओर से जेंटलमैन कैडेटों के कंधों पर सितारे सजाए गए हैं बल्कि कोविड-19 के कारण कोई भी अभिभावक इस कार्यक्रम में शिरकत नहीं कर पाया हालांकि जेंटलमैन कैडेटों के कंधों पर सीनियर ऑफिसर और ट्रेनरों की ओर से सितारे सजाए गए हालांकि इस बार नया अध्याय जोड़ा गया और उसका नाम रखा गया पहला कदम जिसके बाद जेंटलमैन कैडेटों ने अंतिम पग पार करने के बाद पीपिंग सेरेमनी की और उसके बाद पहला कदम पार करते हुए अपनी अपनी टुकड़ियों में मोर्चा संभालने के लिए रवाना हुऐ।


बतौर मुख्य अतिथि थलसेना अध्यक्ष जनरल मनोज मुकुंद नरवाने ने कहा कि भारतीय सैन्य अकादमी में कड़ी मशक्कत के बाद जो इन नए अधिकारियों ने ट्रेनिंग हासिल की है उसी की बदौलत देश की अलग-अलग टुकड़ों का प्रतिनिधित्व करने का मौका इनको मिलेगा और वहां पर यह आपने बेहतरीन प्रशिक्षण का प्रदर्शन करेंगे इतना ही नहीं थल सेना अध्यक्ष जनरल नरवाने ने कहा भारत और चीन के साथ जो तनाव वाला वातावरण था अब खत्म हो चुका है और सैन्य अधिकारियों की बैठक किए जाने के बाद अभी हालात सामान्य हैं वही नेपाल के संदर्भ में जनरल नरवाने ने कहा कि नेपाल के साथ भारत का मजबूत रिश्ता है जो सांस्कृतिक और सामाजिक ताना बानो के साथ बुना हुआ है जिससे भारत और नेपाल के रिश्ते में खटास नहीं आ सकती है इस मौके पर उन्होंने सभी नए सैन्य अधिकारियों को नई चुनौतियों को पार पाने के लिए शुभकामनाएं भी दी।