गोपेश्वर में शुरू हुआ बद्रीश प्रसाद केंद्र, डीएम ने की शुरुआत

संदीप, कर्णप्रयाग



जिलाधिकारी स्वाति एस भदौरिया के प्रयासों से गोपेश्वर में स्थापित बद्रीश प्रसाद वितरण केन्द्र में स्थानीय उत्पादों बिक्री शुरू हो गई है। यहाॅ पर स्थानीय दालें, तरोताजा फल, सब्बजियां, जूस, चैलाई के लड्डू से निर्मित बद्रीश प्रसाद एवं अन्य शुद्व जैविक उत्पाद सस्ते दामों पर उपलब्ध हो रहे। बद्रीश प्रसाद वितरण केन्द्र में स्थानीय उत्पाद हाथों हाथ बिक रहे है। शुद्व जैविक एवं तरोताजा उत्पाद मिलने से जहाॅ ग्राहक खुश है वही स्वयं सहायता समूह को भी बाजार मिलने से भरपूर लाभ मिलने लगा है।

जिलाधिकारी स्वाति एस भदौरिया एवं मुख्य विकास अधिकारी हंसादत्त पांडे ने बद्रीश प्रसाद वितरण केन्द्र का निरीक्षण कर स्वयं भी स्थानीय उत्पादों की जमकर खरीदारी की। जिलाधिकारी ने बद्रीश प्रसाद वितरण केन्द्र में अच्छे तरोताजा उत्पाद उपलब्ध कराने पर स्वयं सहायता समूह की खूब सहराना करते हुए इससे जुड़े काश्तकारों को प्रोत्साहित किया। उन्होंने बद्रीश प्रसाद में चैलाई के लड्डू के साथ-साथ जौ, तिल, गुलाब जल, तुलसी इत्यादि सामग्री को भी शामिल करने को कहा। बताया कि चारधाम यात्रा के दौरान इसकी बहुत डिमांड रहेगी और एसएचजी को बहुत लाभ होगा। वही बद्रीश प्रसाद वितरण केन्द्र का अच्छे एवं आकर्षक रूप में निर्माण करने पर जिलाधिकारी ने ग्रामीण निर्माण विभाग के अधिकारियों की भी प्रशंसा की।

जिलाधिकारी स्वाति एस भदौरिया के प्रयासों से स्थानीय उत्पादों को बढावा देने एवं उनकी अच्छी ब्राडिंग, पैकेजिंग एवं बिक्री के लिए राजकीय सामुदायिक फल संरक्षण एवं प्रशिक्षण केन्द्र गोपेश्वर के निकट बद्रीश प्रसाद वितरण केन्द्र स्थापित किया गया है। पिछले वित्तीय वर्ष में जिलाधिकारी ने वितरण केन्द्र स्थापित करने हेतु बजट का प्राविधान किया था। वितरण केन्द्र संचालन के इच्छुक स्वयं सहायता समूहों से आवेदन लिए गए थे। दशोली ब्लाक के आदित्य देव स्वयं सहायता समूह को वितरण केन्द्र संचालन हेतु आवंटित किया गया। दशोली ब्लाक के इस स्वयं सहायता समूह में 84 से अधिक महिला काश्तकार जुड़ी है।

जिलाधिकारी ने कहा कि जिले में आलू, राजमा, चैलाई, मंडुवा, मटर, सेब, बंद गोभी, फूल गोभी, मिर्च, अदरक, लहसुन अन्य सब्जियां एवं दालें प्रचुर मात्रा में उत्पादन होता हैं। लेकिन उत्पादन से जुड़े काश्तकारों को इसके सही दाम नही मिलता है। इस केन्द्र की स्थापना से जहाॅ ग्राहकों को शुद्व स्थानीय उत्पाद उपलब्ध होंगे वही इससे जुड़े सभी काश्तकारों को भी भरपूर फायदा मिलेगा और एसएचजी से जुड़ी महिलाओं की आर्थिकी सुदृढ होगी। बद्रीश प्रसाद वितरण केन्द्र के निरीक्षण के दौरान मुख्य उद्यान अधिकारी तेजपाल सिह, अधिशासी अभियंता आरडब्लूडी एलपी भट्ट एवं अलादिया भी मौजूद थे।