हार्क संस्था ने ऐसा क्या किया कि कास्तकरों को एक घंटे में पंहुचा 40 लाख का फायदा!!

हार्क संस्था ने पहली बार उतारे स्थानीय उत्पादों से तैयार दीवाली के उपहार, एक घंटे में बुक हुए सौ प्रतिसत आर्डर।


हिमालयन एक्सन रिसर्च सेन्टर (हार्क) अलकनंन्दा कृर्षि व्यवसाय बहुउद्देशीय स्वायत सहकारिता द्वारा पहली बार स्थानीय उत्पादों से तैयार प्रोडक्ट को दिवाली गिफ्ट पैक के तौर पर उतारा गया। उच्च गुणवक्ता, आकर्षक पैकेजिंक व उपभोक्ताओ का आर्गिनक उत्पादों की ओर तेजी से बडते रूझान के कारण ये गिफ्ट पैकेट एक  घंटे के अन्तर्गत सत- प्रतिसत बुक हो गये है।जिससे अलकनंन्दा कृर्षि व्यवसाय स्वायत सहकारिता को लाखों रूपये का मुनाफा हुआ है।


हार्क संस्था के संस्थापक/सचिव डाॅ. महेन्द्र कुवंर का कहना है कि मैने कास्तकारों को दीवाली के अवसर पर खास लाभ पंहुचाने के लिये ये गिफ्ट पैकेज बनवाये थे उसके लिए मैने संस्था के सभी कर्मचारियों को दीपावली से पहले हर हाल में इन गिफ्ट पैकेज को बेचने के आदेश जारी किया था,लेकिन आश्चर्य तब हुआ जब प्रोडक्ट आॅनलाइन करने के एक घंटे बाद सत प्रतिसत बुक हो गये। जो अपने आप में एक रिकार्ड है,और अभी भी लोगों के फोन इन पैकेजों के लिए लगातार आ रहे है। मुझे खुशी इस बात की है कि कास्तकारों को उनकी मेहनत का फल मिल गया है। प्रदेश में लोगों का रूझान आर्गेनिक उत्पादों की ओर तेजी से बड़ रहा है जो सुखद अहसास है।

गौरतलब है कि ड़ाॅ महेन्द्र कुवंर पिछले कई सालों से पहाडी जिलों में कास्तकारों व किसानों के कृर्षि का उचित प्रसिक्षण,बीज,विपणन आदि का प्रसिक्षण देकर व सहकरिता समूह के माध्यम से उन्हें आत्मनिर्भर बना रहे है।अभी तक वह 40 हजार से अधिक युवा किसानों को पूर्ण रूप से आत्मनिर्भर बना चुके है।

भानु प्रकाश नेगी,देहरादून।