हार्ट फेल के प्रमुख कारण जाने इस खबर में।


गांधी शताब्दी अस्पताल में सीनियर काडियोलॉजिस्ट गगन और अमृष ने डॉ. अजीत गौराला के सानिध्य में एक जन जागरूकता कार्यक्रम का आयोजन किया। जिसमे डॉ गगन ने हार्ट फेल्योर के कारण और उसके उपायों पर अस्पताल के स्टॉफ को महत्वपूर्ण जानकारी दी।उन्होंने ने बताया कि आज की जीवन शैली हार्ट फेल्योर का मुख्य कारण बनती जा रही है। हार्ट फेल्यर में दिल की पंम्पिग पावर कम हो जाती है,साथ ही मरीज को सांस लेने में तकलीफ,शरीर में सूजन आनी शुरू हो जाती है। यदि मरीज को इस तरह की समस्या आती है तो उसे तुरन्तु अपना उपचार करवाना चाहिए। आजकल के समय में काफी अच्छी दवायें बजार में उपल्बध है जिससे मरीज की जिन्दगी बच सकती है।
हार्ट फेल्योर के कारण
ब्लड प्रेसर का कन्ट्रोंल न होना,दिल की नसों में रूकावट होना,दिल के बाल्ब में छेद होना आदि प्रमुख है।
उपाय
नमक का सेवन कम करना,अचार,धी,तेल,पापड आदि का सेवन न कर,ेंव्यायाम अवश्य करें,
धुम्रपान  का सेवन बिल्कुल न करें।

कार्यक्रम के संयोजक सीनियर फिजीसियन डॉ.गैरोला ने कहा हमें हार्ट फेल्योर की कभी शिकायत नही हो सकती है अगर हम खाने में नमक सीमित मात्रा में लेते है।
क्योकि  नमक हमारे शरीर में ब्लड प्रेशर को बडता है जो हार्ट फेल्यर का कारण बनता है। डॉ गैरोला ने लोगो को जानकारी देते हुए कहा कि हार्ट फेल्योर के कारणों में हाईपरटेन्सन,डायबिटीज,या कॉडियोमाईपैथी का अगर समय से व नियमित उपचार न होना प्रमुख है।उन्होंने ने बताया कि दिनभर में एक आदमी के लिए एक चम्मच नमक प्रयाप्त होता है।
कार्यक्रम के दौरान अस्पताल के सी.एम.एस डॉ.बी.सी. रमोला समेत स्टॉफ के सभी कर्मचारी मौजूद रहे।
भानु प्रकाश नेगी,देहरादून