गोवा फिल्म फस्टेबल में उत्तराखंड का बिशेष सत्र

सुरम्य बादियों के लिए देश विदेशों में विख्यात उत्तराखंड अब फिल्मकारों की पहली पसंद बनता जा रहा है। मसूरी फिल्म कॉन्क्लेव के बाद फिल्मकारों ने यहां पर फिल्म बनाने के उत्तराखंड का रूख करना शुरूकर दिया है। जिनमें कई फिल्में यहां पर शूटिंग की जा रही है।वही गोवा में आयोजित 50 वे अन्तरराष्ट्रीय फिल्म फस्टेबल में उत्तराखंड का विशेष सत्र रखा गया है उससे यहां पर फिल्म इंडस्ट्रीज के डब्ल्पमेंट की संभवनाये और प्रगाड हो गई है।
मसूरी फिल्म कान्क्लेब के बाद गोवा में आयोजित अर्न्तरराष्ट्रीय फिल्म फेस्टबल में उत्तराखंड का विशेष सत्र आयोजित किया जा रहा है। जिससे यहां पर फिल्म इंडस्ट्रीज के विकास की संभावनायें प्रबल हो गई है।जिससे सूबे के मुख्य मंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत काफी उत्साहित नजर आ रहे है। सीएम रावत का कहना है कि फिल्म इंडस्ट्रीज की आवश्यकता की दृष्ठि से हमने जितना समझा है हमने उसे उतना अनूकूल बनाने की कोशिस की है हमने यहां फिल्म इंडस्ट्रीज को आमंत्रित किया हैं।

वही उत्तराखंड में फिल्मों के लिए बन रहे माकूल वातावरण पर बुद्विजीवी वर्ग भी काफी खुश नजर आ रहा है।डॉ सुशील उपाधाय का कहना है कि यहां फिल्मों के लिए उम्मीद पैदा हो रही हैं।फिल्म डेस्टीनेसन में उत्तराखंड उभर कर आयेगा।जिसतरह से उत्तराखंड का गोवा फिल्म फस्टेबल में विशेष सत्र रखा गया है उससे काफी उम्मीद फिल्मों के निमार्ण के लिए बन रही है।

मसूरी फिल्म कॉन्क्लेव के बाद उत्तराखंड में फिल्मकारों का आना एक शुभ संकेत के तौर पर देख जा रहा है।प्रसिद्व इतिहास कार व पत्रकार डॉ योगम्बर सिंह बर्तवाल का कहना है कि यह उत्तराखंड में नये युग की शुरवात है। इसका पूरा श्रेय वर्तमान सरकार को जाता है।

अपनी सुमधूर आवाज और उत्तराखंडी जागरो से देश व विदेश में अलग पहचान बनाने वाले पद्मश्री डॉक्टर प्रीतम भरतवाण का कहना है कि यह बहुत अच्छी बात है कि यहां फिल्म इंडस्ट्रीज फिल्मों की शूटिंग में रूचि ले रही है। इससे कलाकारों व स्थानीय लोगों को रोजगार मिलगा।

प्रख्यात साहित्यकार डॉ.सुचित्रा सेन फिल्म इंडिस्ट्रीज के उत्तराखंड में आने और यहां फिल्मों की सूटिंग पर काफी उत्साहित नजर आती है लेकिन उनका मानना है कि यहां पर बनने वाली फिल्मों में उत्तराखंड की संस्कृति की झलक होनी आवश्यक है। फिल्में बने लेकिन वह मुबईया नही होनी चाहिए।

उत्तराखंड में फिल्मों को मिल रहे माकूल बातावरण ने अब रंग जमाना शुरू कर दिया है। राज्य सरकार की सकारात्मक पहल और यहां की सुरम्य वादिया,सुरक्षित व शांत वातावरण अब फिल्म प्रडूयूसरों,डायरेक्टरो व कलाकरो को लुभाने लगी है। जिस तरह का बातावरण वर्तमान समय में फिल्म इंडस्ट्रीज के लिए यहां पर बना हुआ है उससे तो यही लगता है कि आने वाला समय यहां के कलाकारो और व्यवसाय करने वाले लोगो को रोजगार परक होगा जिससे उत्तराखंड की आर्थिक व सामाजिक उन्नति दो गुने हिसाब से होने कर संभावना है।