गढ कौथिक मेले में बिखरे संस्कृति के विविध रंग।

 

गढ कौथिक मेले के अंतिम दिन दोपहर बाद शुरू हुए सांस्कृतिक कार्यक्रम में संस्कृति के विविध रंग देखने को मिले। कार्यक्रम की शुरुआत मुख्य अतिथि पूर्व वन मंत्री दिनेश अग्रवाल व विशिष्ट अतिथि सुदेश वर्मा ने दीप प्रज्वलित कर किया।

 

कार्यक्रम में दिन की शुरुआत संस्था की महिलाओं व स्कूली बच्चों ने रंगारंग प्रस्तुति दी। India’s gotes telent seasonion 7 semi finalist पार्थिव रतूडी ने अपनी मोहक प्रस्तुति ने सभी को खुश कर दिया।


सायंकालीन संघ्या में वीरेन्द्र राजपूत और अनुराधा निराला,पूनम सती के गीतों पर जमकर थिरके। अनुराधा निराला ने देवी कुंजापुरी दैणी तू ह्यये जैयी,मुल मुलाकात कै कू हैसणि छे तू हे कुवें की डायि।बीरेन्द्र राजपूत ने भगवती तू दैणि ह्यये जैयी समेत कई गीत गाये।


संस्कृति विभाग की टीम हंसा नृत्य नाट्य कला मंच ने कई रंगारंग प्रस्तुति दी।
संस्था द्वारा तीन बुजुर्ग चैता देवी 97 साल प्रेमलता देवी87वर्ष,सुबे बचन सिंह बिष्ट90 बर्ष को सम्मानित किया गया। इस दौरान संस्था के कर्मठ कार्यकर्ता कै. आलम सिंह भण्डारी,सुबे. मान सिंह नेगी,दीपक नेगी,बिलोचन वर्थवाल क भी सम्मानित किया गया। कार्यक्रम में संस्था के अध्यक्ष रधुनंदन सिंह रावत, महासचिव राजू फस्वार्ण, संरक्षक कर्नल एच एम बर्थवाल उपाध्यक्ष राकेश जुयाल,सुषमा सजवाण, सांस्कृतिक सचिव उषा कोटनाला, यशवंती थपलियाल, प्रेस सचिव कै आलम सिंह भण्डारी, कोषाध्यक्ष निर्मल कुमार डंडरियाल समेत सभी सदस्य और गणमान्य लोग मौजूद रहे।

   -भानु प्रकाश नेगी