नाबालिग से गैैंग रेप, पांच गिरफ्तार.

मदद दिलाने के नाम पर नाबालिग का किया अपहरण 
देहरादून, सहसपुर थाना इलाके में नाबालिग लड़की से गैैंग रेप का मामला सामने आया है. नाबालिग का गैंग रेप के बाद अपहरण किया गया था. पुलिस ने रविवार देर रात आईएसबीटी से एक आरोपी को गिरफ्तार किया और नाबालिग को बरामद किया. इसके बाद चार अन्य आरोपी को गिरफ्तार किया गया. पुलिस ने सभी आरोपी को कोर्ट में पेश कर जेल भेज दिया है.
डेढ़ माह पहले हुई की घटना  
 पुलिस ने बताया की घटना डेढ़ माह पहले की है. नाबालिग इलाके  के एक निजी स्कूल में पढ़ती थी. आदित्य सकलानी पुत्र मनोज कुमार छात्रा उससे दोस्ती करना चाहता था, जब छात्रा ने मना किया तो उसने दोस्तों के साथ नाबालिग से गैैंग रेप की योजना बनाई. एक दिन छात्रा अपने घर से बाजार समान खरीदने आई थी. आदित्य के दोस्त अभिनव उर्फ  शालू , जोगिंदर उर्फ  रवांडा, राहुल राणा उर्फ  बंटी उसे डरा धमका कर एक इलाके की एक बंद फैक्ट्री के अंदर ले गए और गैैंग रेप किया. इस दौरान एक  युवक ने गैैंग रेप के वक्त वीडियो व फोटो लिए. विरोध करने पर युवकों ने सोशल मीडिया पर वायरल करने की धमकी दी.
मदद के नाम पर, अपहरण 
पुलिस ने बताया कि जब युवक फिर नाबालिग को निशाना बनाने लगे, तो स्कूल के पास में रविन्द्र उर्फ लक्की नाम के व्यक्ति की दुकान थी. नाबालिग का अक्सर उस दुकान में आना जाना था. परिवार की बदनामी न हो उसने रविन्द्र को गैैंग रेप की पूरी बात बताई.  रविन्द्र ने नाबालिग को आश्वासन दिया कि उनसे बदला लेने के लिए वह मदद करेगा. 13 नंबर को रविन्द्र नाबालिग को बहला फुसला कर बरेली ले गया.  सूत्रों से परिजनों को पता चला कि स्कूल के पास जिस व्यक्ति की दुकान थी वह नाबालिग को लेकर फरार हो गया. जिसके बाद पीडि़ता के परिजनों ने 18 नवंबर की रात गुमशुदगी दर्ज कराई. जिसके बाद पुलिस ने आरोपी की लोकेशन टे्रस की. सोमवार सुबह आईएसबीटी पर व्यक्ति की लोकेश मिली पुलिस मौके पर पहुंची और आरोपी को गिरफ्तार किया और नाबालिग को बरामद किया.
आरोपी की पहचान 
पुलिस पूछताछ में आरोपी की पहचान आदित्य सकलनी उर्फ लक्की पुत्र मनोज कुमार (स्टूडेंट), अभिनव उर्फ  शालू पुत्र रामकरण (बस परिचाल) , जोगिंदर उर्फ  रवांडा पुत्र मनोहर लाल (सफाई कर्मी) ,
राहुल राणा उर्फ  बंटी पुत्र जोगिंद्र (बाउंसर) , रविन्द्र उर्फ  लक्की पुत्र नरेश कुमार (दुकानदार) के रूप में हुई है.
————
घटना डेढ़ माह पहले की है, पीडि़ता के परिजनों ने 18 नंबर की रात को गुमशुदगी दर्ज कराई.सोमवार सुबह आरोपियों को आईएसबीटी से गिरफ्तार किया गया. सभी आरोपी को कोर्ट में पेश कर जेल भेज दिया है.
नरेश राठौर, प्रभारी, सहसपुर