धर्म व शास्त्र सभी को जोड़ने की प्रेरणा देते हैं -आचार्य ममगांई

धर्म व शास्त्र सभी को जोड़ने की प्रेरणा देते हैं आचार्य ममगांई

भारत भूमि दिब्य है भगवान ने स्वयं इसी भारत कि पावन भूमि में एक बार नहीं क‌ई बार भगवान ने ‌अवतार लिया देवो में तणपन होती अवतरने लिए धर्म व शास्त्र सभी को जोड़ने की प्रेरणा देते हैं आज धर्म के नाम पर शोषण होने लगा है अनेक पाखंडी अपने को भगवान का अवतार बताकर भी पुजवाने लगें हैं इन कल युगी अवतारों से सावधान रहना चाहिए मानव भगवान का पुजारी या भक्त हो सकता है किन्तु भगवान स्वयं कैसे हो सकता है उक्त बिचार आचार्य श्री शिवप्रसाद ममगांई ने भानियावाला देहरादून में आयोजित श्री मद्भागवत की कथा में कहा।

उन्होंने कहा कि राम कृष्ण कि सेवा का अधिकारी वहीं है जो माता पिता की सेवा करें भक्ति का मूल भगवान के बारे हृदय से प्रेम उत्पन्न करना है जब आतंरिक प्रेम होने लगेगा तो प्रभू की उपासना सेवा बिना एक क्षण भी काटना कठिन हो जाएगा यही भागवत धर्म का प्रथम लक्षण है बार बार कथा सुनना या संकीर्तन करना यही कल्याण मार्ग का सरल रास्ता है। कलयुग में भगवान का पावन नाम ही कल्याण का सबका सुगम रास्ता बताया गुरु है आचार्य श्री ने कहा कि लोग शिकायत करते हैं कि नाम जप में मन नहीं लगता परन्तु ‌तीन तीन घण्टे टी बी पर गन्दी फिल्म देखने तन्मयता कैसे आ जाती है। तब चिंत चंचल क्यो नही होता कमाई भोग ब्यापार में ब्यवहार में मनुष्य भोजन तक भूल जाता है। इसका एक ही कारण है भक्ति में आस्था की कमी होना गुरु केवल सिर पर हाथ रख करकल्याण कर देगे उस भ्रान्ति को हृदय से निकाल दो ।

आचार्य श्री ने कहा कि बिगह व मूर्ति को साक्षात बिग्रह मानकर पूजो मुर्ति पूजा विधान को अच्छी तरह से समझ लेना चाहिए आचार्य ममगांई जी ने कहा किकर्म ही धर्म है बेद के बताएं मार्ग पर चलना ही धर्म है भगवान श्री कृष्ण जी ने बर्णाश्रम के पालन पर जोर दिया भगवान सम्पत्ति दे दो सदुपयोग करने या स्थायि पंन व बृद्धि धन की होती है।

आज बिशेष रुप से  मुख्यमंत्री  त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने कहा कि हमारे यहां देवी देवताओं की पूजा होती एवं माता पिता की पूजा होती है इसलिए इस भूमि को देव भूमि कहते हैं। चन्द्र सिंह नेगी, चन्द्रा वती नेगी ,  देवेन्द्र सिंह नेगी, लक्ष्मी नेगी, प्रमेंद्र नेगी , शोभा नेगी , प्रदुम्न सिंह नेगी ऊषा नेगी , नरेंद्र सिंह नेगी नीलम नेगी ,धीरेन्द्र नेगी मंजू नेगी, जितेन्द्र नेगी , रेनू ने गी आदि उपस्थित थे