मां धारी देवी डोली की 21 दिवसीय यात्रा का माता मंगला जी ने किया शुभारंभ,

मां धारी देवी डोली की 21 दिवसीय यात्रा का माता मंगला जी ने किया शुभारंभ, पहले पड़ाव में त्रियुगीनारायण पहुंची यात्रा

देश-प्रदेश में सुख-शांति-समृद्धि की प्रार्थना के साथ माता मंगला जी ने 21 दिवसीय मां धारी देवी डोली यात्रा का किया शुभारंभ


 

हर साल की तरह इस वर्ष भी ईष्ट देव सेवा समिति के तत्वाधान में 7 फरवरी से 27 फरवरी तक आयोजित होने वाली मां धारी देवी डोली की 21 दिवसीय यात्रा का शुभारंभ हंस फाउंडेशन की संस्थापक माताश्री मंगला जी,सुप्रीम कोर्ट दिल्ली में अधिवक्ता मुख्य यजमान संजय शर्मा दरमोड़ा, मंदिर मुख्य पुजारी लक्ष्मी प्रसाद पाण्डेय,डोली समिति के अध्यक्ष मनोज उनियाल और आचार्य सुरेंद्र प्रसाद सुंदरियाल सहित सिद्धपीठ मां धारी देवी के प्रागंण में उपस्थित हजारों भक्तों ने मां के जयकारों के साथ किया।

मां धारी देवी डोली यात्रा का शुभारंभ करने से पूर्व सिद्धपीठ धारी देवी मंदिर में पूजा अर्चना और यज्ञ किया गया। भक्तों ने मां की डोली को नमन कर पुष्प अर्पित किए। 21 दिवसीय मां धारी देवी प्रतीक डोली यात्रा ने विधिवत रूप से पूजा अर्चना, वाद्य यंत्र ढोल दमाऊ, डोर, थाली के पारंपरिक जागरों, भजनों, मां धारी देवी के जयकारों के साथ 21 दिन की यात्रा पर रवाना हो गई। जिसमें हजारों की संख्या में मां के भक्त मौजूद थे।

इस मौके पर माताश्री मंगला जी ने देश-प्रदेश के लोगों के लिए सुख-शांति-समृद्धि की प्रार्थना करते हुए कहा आज हम सब के लिए यह सौभाग्य की बात हैं कि हम सब सिद्धपीठ धारी देवी मंदिर के प्रांगण मां के आशीष की छाओं में खड़े है। मैं मां धारी देवी जी से आप सभी के जीवन के सुखमय होने की कामना करती हूं।

माताश्री मंगला जी मां धारी देवी डोली यात्रा के आयोजन के लिए डोली समिति को शुभकामनाएं देते हुए कहां की हम सब के जीवन में मां सबसे श्रेष्ठ स्वरूप है। जिनके मार्गदर्शन में हम अपने जीवन के कई पडावों से गुजरते हुए,खुद के लिए और असंख्य लोगों के लिए अच्छे कार्यों के माध्यम से प्रेरक बनते है। इस दिशा में हम भी हंस फाउंडेशन के माध्यम से निरंतर सेवा के पथ पर चल रहे है। मां का आशीष ही हैं कि हम उनके आशीष से असंख्य वंचित और जरूरतमंद समाज के साथ खड़े रहकर अपनी सेवाओं का विस्तार कर रहे है।

माता मंगला जी ने मां धारी देवी से कोरोना से जंग जीतने की प्रार्थना करते हुए मंदिर प्रांगण में मौजूद भक्तों से आहवान किया कि आप सभी इस 21 दिवसीय यात्रा में सरकार द्वारा कोरोना वायरस संक्रमण से बचाव के लिए बनाए गए दिशा-निर्देशों का पालन करते हुए पूरी यात्रों को सफल बनाएं।

इस मौके पर मां धारी देवी डोली यात्रा में शामिल सुप्रीम कोर्ट के अधिवक्ता मुख्य यजमान संजय शर्मा दरमोड़ा ने यात्रा में शामिल सभी भक्तों का अभिवादन करते हुए कहां की आज हम सब सौभाग्यशाली ने की इस प्रांगण में हमें मां धारी देवी के साथ-साथ पूज्य माताश्री मंगला जी का आशीष भी प्राप्त हो रहा है। श्री दरमोड़ा ने कहा की उत्तराखंड की संपूर्ण जनता का सौभाग्य हैं कि उनके पास पूज्य माताश्री मंगला जी एवं श्री भोले जी महाराज जैसी संत आत्माए खड़ी है। जो हर संकट के समय में इस राज्य के गरीब और जरूरत मंद लोगों के साथ खड़े रहते है। हम पूज्य माताश्री मंगला जी एवं श्री भोले जी महाराज जी का आभार प्रकट करते हैं कि पूरे कोरोनाकाल से लेकर निरंतर रूद्रप्रयाग के गरीब, जरूरतमंद लोगों,देवालयों के तीर्थ पुरोहितों से लेकर हर वंचित समुदाय के लोगों तक आपने निरंतर मदद पहुंचायी है।

श्री दरमोड़ा ने कहां कि स्वास्थ्य-शिक्षा से लेकर गरीब कन्याओं का विवाह,दिव्यांगजनों,विधाओं और तमाम उन लोगों तक पूज्य भोले जी महाराज एवं माताश्री मंगला जी का आशीष पहुंच रहा है। जो वास्तव में जरूरतमंद है।

इस अवसर पर आचार्य सुरेंद्र प्रसाद सुंदरियाल ने मां धारी देवी से उत्तराखंड के जनमानस के जीवन में सुख-शांति की कामना करते हुए पूज्य माता मंगला जी,संजय शर्मा दरमोड़ा जी एवं मंदिर प्रांगण में उपस्थित सभी भक्तों को आभार व्यक्त करते हुए कहा कि हम आज धन्य हो गए,हमें आज मां धारी देवी के साथ-साथ मां माता मंगला जी का आशीर्वाद भी मिल है। माता मंगला जी ने मां धारी देवी डोली यात्रा का शुभारंभ किया। इसके लिए हम पूरी मंदिर समिति की तरफ से माता मंगला जी एवं यहां उपस्थिति सभी प्रबुद्धजनों का कोटि-कोटि आभार व्यक्त करते है।

आपको बदा दें कि 7 फरवरी से शुरू हुई धारी देवी डोली यात्रा ने धारी मंदिर से केदारघाटी के लिए प्रस्थान किया। इसके बाद यह यात्रा विभिन्न प्रदेशों और तीर्थों के भ्रमण के बाद 27 फरवरी पूर्णिमा के दिन हरिद्वार ब्रह्मकुंड में स्नान एवं हवन के बाद अपने थान नेहरू कालोनी देहरादून के लिए प्रस्थान करेगी। यहां पूजा अर्चना और प्रसाद वितरण कर डोली यात्रा का समापन किया जाएगा।