कोरोना से संबधित ये खबर खास है आपके लिए

प्रदेश में पिछले कुछ दिनों से कोरोना संक्रमण के मामले कम हुए है साथ ही रिकवरी रेट 81 फीसदी से अधिक हो गया है। जिससे प्रदेश वासियों ने कुछ राहत महसूस की है। लेकिन वर्तमान समय में कोरोना संक्रमण से मरने वाले की संख्या 10 से अधिक रही है जो चिन्ता कारण बना हुआ है। दून मेडिकल काॅलेज के मेडिसिन डिपार्टमेंट के हेड डाॅक्टर नारायणजीत का कहना है कि प्रदेश में कोरोना का संक्रमण एक बार उच्च स्तर पर पंहुच चुका है अब ग्राफ नीचे की ओर आ रहा हैं। इस बीच आम जनता में जागरूकता भी बड़ी है,लोंगो ने मास्क लगाना शुरू किया है।

कोरोना संक्रमण कुछ दिन इसी लेबल पर रहेगा। कोरोना का कुछ ग्राफ उन मरीजों से भी बड़ रहा है जो संक्रमित होने के कुछ दिनों बाद फिर जांच करवा देते है और उनकी रिपोट फिर से पाॅजिटिव आ जाती है।जबकि उनसे संक्रमण का खतरा बहुत कम हो जाता है।मौत के बढ़ते आंकडों के कारणों में देर से ट्रीमेंट लेना व गंभीर होने पर दवा का काम न करना प्रमुख कारण है।इस बीमारी में मरीज को सिर्फ 10 दिन तक ही ज्यादा खतरा होता है। 10 दिन में मरीज या तो पूरी तरह से ठीक हो चुका होता है या फिर गंभीर हालत में पंहुच जाता है।संक्रमण का दूसरा दौर कुछ दिनों बाद फिर से बड़ सकता है लेकिन इसकी बहुत कम संभावनायें है। अभी भी सभी लोगांे को सावधान रहने की आवश्यकता है।