कोरोना संक्रमण के भय से कैदियों को मिल सकती है छह माह की छूट

प्रदेश में कोरोना के मामले बढ़ रहे हैं तो दूसरी तरफ प्रदेश की जेलों में भी कोरोना के मामले सामने आ गए हैं. जिसके बाद एडीजी जेल पीवीके प्रसाद ने राज्य सेवा विधि प्राधिकरण को एक पत्र लिखा. पत्र में उन्होंने कुछ कैदियों को पेरोल पर कम से कम 6 महिने तक छोड़ने की मांग की है.

एडीजी जेल के अनुसार जेलों में कोरोना के मामले सामने आने लगे हैं और अभी प्रदेश की जेलों में पांच हजार कैदी मौजूद हैं जबकी कैदियों की रखने की जगह सिर्फ 38 सौ ही है. ऐेसे में उन कैदियों को पैरोल दिया जा सकता है जो ज्यादा खतरनाक नही हैं.