सीएम एप पर शिकायत के बाद मिला मृतक आश्रित कों 7 साल से रूका 6लाख 99 हजार,पेंसन शुरू।

मुख्यमंत्री एप में शिकायत करने पर मृतक आश्रित को मिला 7 साल से रुका हुआ रूपए 6 लाख 99 हजार 354 बकाया जीपीएफ तथा ग्रेचुटी और मृतक आश्रित पेंशन हुई शुरू”


 

नैनीताल जिले के राजकीय  मेडिकल कॉलेज हल्द्वानी में श्री राम सिंह घनेला सन 1996 से 27 जून 2012 तक कनिष्ठ कार्यालय सहायक के पद पर कार्यरत थे ,श्री राम सिंह घनेला  का आकस्मिक निधन दिनाक 29 जून 2012 को हो गया था मरणोपरांत उनकी पत्नी श्रीमती रेखा घनेला को स्वर्गीय पति की ग्रेचुटी और ळच्थ् तथा  मृतक आश्रित पेंशन दी जानी थी लेकिन 7 साल के बाद भी 2019 तक ना तो उनकी पेंशन शुरू हो पायी थी और ना ही अभी तक श्रीमती रेखा घनेला के स्वर्गीय पति का ळच्थ् औरग्रेचुटी का पूरा पैसा मिला। इस सम्बन्ध में उन्होंने कई बार अधिकारियों को लिखित और  मौखिक रूप से शिकायत भी दर्ज की थी
 रेखा घनेला ने कुछ दिनों पहले ही समाचार पत्रों में पढ़ा था, कि मुख्यमंत्री मोबाइल एप  पर शिकायत दर्ज करने पर, शिकायत कर्ता की समस्या का समाधान तुरंत किया जा रहा है। जिसमें न किसी ऑफिस के चक्कर लगाने की जरुरत है और ना ही किसी अधिकारी की खुसामत करने की जरुरत है। मुख्यमंत्री मोबाइल एप पर एक बार शिकायत दर्ज होने पर उसका त्वरित समाधान किया जा रहा है।
 रेखा घनेला ने भी अपने मोबाइल पर सीएम उत्तराखंड मोबाइल एप  डाउनलोड कर अपने अपने स्वर्गीय पति की मृतक आश्रित पेंशन शुरू न होने और उनके  ळच्थ् और ग्रेचुटी   का पूरा पैसा न मिलने की शिकायत दर्ज कराई। शिकायत मिलते ही मुख्यमंत्री कार्यालय ने निदेशक चिकत्सा शिक्षा विभाग और निदेशक कोषागार को उक्त शिकायत का त्वरित समाधान करने के निर्देश दिए।
निर्देश का अनुपालन करते हुए अधिकारीयों द्वारा समस्या का पूर्ण रूप से समाधान किया गया , श्रीमती रेखा घनेला को उनके स्वर्गीय पति का  ळच्थ् और ग्रेचुटी का रुका हुआ रूपये 6 लाख 99 हजार 354 और बकाया पेंशन का पैसा भी मिल गया और साथ ही उनकी पेंशन भी शुरू हो गई।
 रेखा घनेला  ने कहा कि gpf तथा ग्रेचुटी  का रुका हुआ पैसा और पेंशन न मिलने से उनके परिवार को जीवन यापन करने में बहुत परेशानियों का सामना करना पड़ रहा था। पेंशन शुरू होने और उनके ळच्थ् तथा ग्रेचुटी  का रुका हुआ पैसा मिलने के बाद  उनका परिवार बहुत खुश है, उन्होंने कहा मुख्यमंत्री जी द्वारा जनता के साथ सीधे जुड़ने के लिए शुरू की गयी सीएम एप उनके परिवार के लिए एक वरदान की तरह साबित हुई है
उन्होंने मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत व चिकत्सा शिक्षा विभाग व कोषागार का शुक्रिया अदा किया है