लोकगायक चन्द्रसिंह राही की पुण्यतिथि पर लोकगायिका रेखा धस्माना सम्मानित।

-लोकगायक चन्द्रसिंह राही की तीसरी पुण्य लोकगायिका रेखा धस्माना उनियाल सम्मानित।


दिल्ली: सुप्रसिद्व लोकगायक चन्द्रसिंह राही की तीसरी पुण्य तिथि पर लोकगायिका रेखा धस्माना उनियाल व लोकगायक हीरासिंह राणा के गीतों पर दर्शक जमकर झूमे।रेखा धस्माना ने मेरू बुड्या कू व्यो च रे,रूमूकू ह्येगे,आदि फरमायसी गीत गाये जिस पर दर्शक जमकर थिरके,वही हीरा सिंह राणा द्वारा कुमांउनी गीत “आज हरे ज्वान मेरू न्योलि प्राण” गीत गाकर दर्षको को मंत्रमुग्ध कर दिया। कार्यक्रम में लोकगायिका रेखा धस्माना के पंहुचते ही सांस्कृतिक संध्या की रौनक चार गुना बड़ गई जहां रेखा के फेन्स उन्हें सुनने के लिए काफी उत्सुक दिखे।
इससे पहले नवोदित कलाकरों ने राही जी द्वारा गाये गीतों को गाया गया,गीत सही तरीके से न गाये जाने पर लोक गायिका रेखा धस्माना ने उन्हें गीतों को सही ढंग से गाने की हिदायत दी।
कार्यक्रम के दौरान रेखा धस्माना व हीरा सिंह राणा को सम्मानित किया गया। इस दौरान भारी भीड़ ने देर रात तक जमकर सास्कृतिक संध्या का मजा लिया।
गौरतलब है कि, लोकगायिका रेखा धस्माना उनियाल स्व.चन्द्रसिंह राही के साथ कई गीतों की जुगलबंदी कर चुकी है।जिनमें उनके सभी गीत सुपरहिट रहे।और आज भी लोगों के दिलों दिमाग पर छाये हुए है।

-भानु प्रकाश नेगी,देहरादून।