चमोली :ग्राम पंचायत मैड ठेली नेथोली बनेगा राजस्व ग्राम- मुख्यमंत्री

जिला चमोली दशोली ब्लॉक में ग्राम पंचायत मैड ठेली नेथोली में ग्राम ठेली की वर्षों से चली आ रही राजस्व गांव की मांग को लेकर चमोली गोपेश्वर में मुख्यमंत्री  trivendra Singh Rawat के भ्रमण के दौरान  समस्त ग्राम वासियों की तरफ से मुख्यमंत्री को ज्ञापन सौंपा गया।  मुख्यमंत्री  त्रिवेंद्र सिंह रावत ने इस विषय को गंभीरता से संज्ञान लिया और हमारी समस्त ग्राम वासियों को भरोसा दिलाया है कि ग्राम ठेली को राजस्व गांव अवश्य बनाया जाएगा।

इस ठोस आश्वासन के लिए मुख्यमंत्री  trivendra Singh Rawat को  ग्राम वासियों की तरफ से धन्यवाद दिया गया।
ग्राम पंचायत पलेठी से ही वर्तमान समय में भी ग्राम ठेली की मूल गांव के रूप में पहचान है जिसका सरकारी दस्तावेजों के अनुसार आज भी रिकॉर्ड में दर्ज है। 2007 में ग्राम पंचायत पलेठी से ग्राम पंचायत मैड ठेली नेथोली का पुनर्गठन हुआ उसके बावजूद भी ग्राम ठेली के ग्रामीणों को बहुत सारी परेशानियां उठानी पड़ती है।
वर्तमान समय में ग्राम ठेली की आठवीं पीढ़ी चल रही है। उसके बावजूद भी ग्राम ठेली की राजस्व गांव की पहचान नहीं है। जबकि गांव की पहचान द्वितीय विश्वयुद्ध से लेकर वर्तमान समय तक भारतीय सेना में ग्रामीणों का महत्वपूर्ण योगदान रहा है। उसमें चाहे स्वच्छता हो या सामाजिक कार्यक्रम ,राजनीतिक, धार्मिक,आदि कार्यक्रमों में भी सदैव अग्रणी रहा है।


राजस्व गांव ना होने के ग्रामीणों की समस्याएं
1-वर्तमान समय में सरकारी दस्तावेजों में ग्राम ठेली का सरकारी डाटा उपलब्ध न होना
2- पासपोर्ट से लेकर आधार कार्ड किसी भी सरकारी डाटा में ग्राम ठेली डाटा उपस्थित ना होना।
3-ग्राम पंचायत में पंचायत पदों में अधिकार ना होना
4-जैसे-आंगनवाड़ी से सहआंगनबाड़ी आशा कार्यकर्ता भोजन माता वन पंचायत महिला मंगल दल रजिस्ट्रेशन ना होना यहां तक कि सरकारी सस्ते गल्ले दुकान के लिए भी अधिकार न मिलना।
5-वन विभाग एवं वन पंचायत क्षेत्र में ग्राम ठेली का जंगलों में अधिकार ना होना।