मोदी भरोसे भाजपा या मुद्दे से भटकी कांग्रेस.

 भानु प्रकाश नेगी
लोकसभा चुनाओं की तारिख नजदीक आते ही सियासी सरगर्मीयों तेज हो गई है,सभी सियासी दल व र्निदलीय प्रत्यासी वोटर को रिझाने के लिए तमाम वादे और दावे कर रहे हैं।भाजपा मुख्य रूप से प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को आगे कर चुनाव लड़ रही है।वही कांग्रेस भी मुख्य मुद्दों से भटक कर मोदी को कोसने पर लगी है। क्या है पूरा मामला देखते है एक रिपोर्ट
भले ही भाजपा अपने कार्यकर्ताओं की मेहनत व राष्ट्रवाद पर जनता से बोट मांगने की बात कह रही हो लेकिन हर जगह मोदीमय होने से भाजपा के पास प्रत्यासियों की उपलब्धियां गौंण दिख रही है। प्रदेश कांगे्रस का कहना है कि भाजपा अपने कार्यो व योग्यताओं पर वोट मांगने के बजाए मोदी के नाम पर वोट मांग रही है।
 वही भाजपा का कहना है कि भाजपा अपने कार्यकताओं की मेहनत,राष्ट्रवाद के साथ साथ केन्द्र व राज्य सरकार द्वारा की गई विकास योजनाओं के नाम पर वोट मांग रही है। जिसमें मोदी मैजिक भी देखने का मिलेगा।
 भाजपा और कांग्रेस की हकीकत पर बरिष्ठ राजनीतिक पत्रकार रविन्द्र नाथ कौशिक का इसे अच्छा नहीं मानते उनका कहना है कि व्यक्तिवादी राजनीति अवांक्षनीय है। विपक्ष केन्द्र सरकार की पांच साल की कमियों को मुद्दा बनने के बजाय ब्यक्तिगत तरीके से भाजपा को कोस रही है,जिसे अच्छी राजनीति नहीं कहा जा सकता है।
-भाजपा भले ही राज्य व केन्द्र सरकार की उपलब्धियों व राष्ट्रवाद पर जनता से बोट मांगने की बात करती हो लेकिन अभी भी वह मोदी मैजिक के भरोसे बैठी हुई है,वही विपक्षी पार्टी केन्द्र सरकार की पांच साल की कमीर्यों को मुद्दा बनाने के बजाए व्यक्तिगत तौर पर मोदी को कोसने में लगी हुई है,अब देखना यह होगा कि वोटर किस पार्टी की ओर करवट लेती है।