कांग्रेस अंदरूनी घमासान का शिकार, अस्तित्व ख़तरे में : बंसीधर भगत

चारों विधायकों ने भाजपा प्रदेश अध्यक्ष के समक्ष पक्ष रखा।


भाजपा प्रदेश अध्यक्ष  बंशी धर भगत ने कहा कि विभिन्न मामलों पर जिन चार विधायकों से अपना पक्ष रखने के लिए कहा गया था उन चारों ने अपना पक्ष उनके सामने रख दिया है। श्री भगत ने कांग्रेस को पूरे देश में आंतरिक कलह का शिकार बताते हुए कहा कि कांग्रेस का अस्तित्व ही ख़तरे में आ गया है।

आज भाजपा प्रदेश कार्यालय पर पत्रकारों से अनौपचारिक बातचीत में भाजपा प्रदेश अध्यक्ष बंशी धर भगत ने कहा कि चार विधायकों के मामलों का पटाक्षेप हो गया है। जहाँ श्री कुंवर प्रणव चैम्पियन दोबारा भाजपा में शामिल कर लिया गया है वहीं श्री देशराज कर्णवाल को माफ़ी दे गई है। इसके अलावा श्री महेश नेगी व श्री पूरन सिंह फ़र्तवाल की बात सुन कर उन्हें निर्देश दे दिए गए हैं।

उंन्होने कहा कि उत्तराखंड में भाजपा विधायकों में किसी भी प्रकार की कोई नाराज़गी नहीं है।अगर कोई विधायक कार्यकर्ता, अध्यक्ष व मुख्यमंत्री से अपनी बात रखता है तो परिवार का सदस्य होने के नाते विधायक व कार्यकर्ताओं का यह अधिकार है।

उन्होंने कांग्रेस पर चुटकी लेते हुए कहा कि उत्तराखंड सहित पूरे देश में आंतरिक संघर्ष का शिकार कांग्रेस आज देश भर में अपना अस्तित्व खोती जा रही है ।कांग्रेस के नेता अपने ही पार्टी के नेताओं के कार्य कलापों पर आये दिन प्रश्न चिन्ह लगाते रहते है ।यहाँ तक कि राष्ट्रीय कार्यकारी अध्यक्ष को भी परोक्ष चुनौती मिल रही है। उत्तराखंड में तो विधानसभा चुनाव के कांग्रेस के चेहरे को लेकर अभी से संग्राम छिड़ चुका है। इससे साफ़ है कि प्रदेश में कांग्रेस की हालत पहले से भी अधिक ख़राब होने जा रही है।