भालू के आंतक के सायें में पोखरी ब्लाक के दो दर्जन से भी अधिक गांव,वन विभाग मौन!

पोखरी(सिमखोली) पोखरी ब्लाक के दर्जनों गांव आजकल आदमखोर भालू के आतंक के साये में जी रहे है। दहसत इतनी ज्यादा हो गई है कि ग्रामीण अपने घरों से काम के लिए निकलने के लिए भी डर रहे है।भालू अभी तक कई लोगों को घायल कर चुका है,जबकि वन विभाग बेखबर होकर चैन की नींद सो रहा है।


ताजा घटना सिमखोली गांव का है जब महिलायें जंगल में घास लेने के लिए गई थी तो अचानक उनकी नजर भालू पर पड़ी,भालू उनकी ओर हमला करने के लिए दौडा लेकिन महिलाओं ने उसे शोर कर भगा दिया,महिलाओं का कहना कि अगर हम एक साथ न होते तो कोई भी अनहोनी हो सकती थी।उन्होंने बताया कि भालू ने आस-पास ही बच्चों को जन्म दिया है इसलिए वह ज्यादा हमलावर हो रहा है।इससे पहले उडामाण्डा पारतोली निवासी नाथीराम खाली की धर्मपत्नी पर भालू ने हमला कर घायल कर दिया था। ग्रामीणों का कहना है कि आस पास के कई अन्य गांवों में भी भालू को देखा गया है। जिससे ग्रामीणों में भय का माहौल बना हुआ है,और अकेले कही भी जाने के लिए डर रहे है।


गौरतलब है कि पोखरी ब्लाक के सिनाउ,सिमखोली,इज्जर,काण्डई,उडामाण्डा,बिनगड,खूनगाड,कमेडा,विरसण,सेरा,क्वेठी,देवर समेत दर्जनों गांवों में भालू ने दो सप्ताह से अधिक समय से आंतक फैला रखा है,लेकिन वन विभाग इसकी सुद लेने को राजी नही है। जिससे क्षेत्र के ग्रामीणों में आक्रोश फैलता जा रहा है ग्रामीणों का कहना है कि विभाग को शायद किसी बडे हादसे का इंतजार है तभी आदमखोर भालू को पकडा जायेगा।
-भानु प्रकाश नेगी,देहरादून