भाग-जोग(गढवाली) नाटक में छलका पहाड़ का दर्द।

देहरादून
निदेशक/लेखक कुलानन्द घनशाला प्रस्तुत गढवाली नाटक भाग-जोग में कलाकारों ने जबदरस्त मंचन कर लोगों को पहाड़ के बारे में सोचने पर मजबूर कर दिया। नगर निगम देहरादून के सभागार मे आयोजित इस नाटक में पहाडों में पलायन से माता-पिता कि एकाकीपन का मार्मिक चित्रण किया गया। हिमालय लोक साहित्य एवं संस्कृति विकास ट्रस्ट की ओर से मंचित नाटक में ग्राम प्रधानी के पात्र सरिता भट्ट समेत सभी कलाकारों ने वाह वाही लूटी।


पहाड की वर्तमान पीड़ा पलायन से बीरान होते पहाड और वहां छूट जाने वाले माता-पिता की पीडा को बयान करते भाग-जोग नाटक ने दर्शकां को सोचने पर मजबूर कर दिया। कार्यक्रम में बतौर मुख्य अतिथि पुलिस महानिदेशक अनिल रतूडी,विशिष्ठ अतिथि सुश्री बीना भटट, निदेंशक संस्कृति विभाग ने सिरकत की। इस दौरान सचिव मदन डुकलान,कोषाध्यक्ष रमेन्द्र कोटनाला, संस्थापक सदस्य रानू बिष्ट समेत कई गणमान्य लोगों ने सिरकत की।