यहां 250 निःसंतोनों को मिला संतान का वरदान।

’मंडल/चमोली
सुप्रसिद्व सती सिरोमणी अनुसूईया मेला (दत्तात्रेय जयंती) के अवसर पर 250 निःसंतानों को संतान प्राप्ति का वरदान मिला ।प्राप्त जानकारी के अनुसार इस शुभ अवसर पर प्रदेश भर से श्रद्वालुओं का अनुसूईया आश्रम में तांता लगा रहा। देश के विभिन्न प्रदेशों से आये श्रधालुओं ने भी यहां माता का आशीर्वाद प्राप्त किया।
दत्तात्रेय जंयती के अवसर पर हर साल मनाये जाने वाले इस मेले को संतान प्राप्ति के लिए विशेष माना जाता है। यू ंतो वर्ष भर अनुसूईया आश्रम में भक्त संतान प्राप्ति के लिए देश के कोने कोने से आते है। लेकिन दत्तात्रेय भगवान के जन्मदिवस पर यह पर्व  विशेष माना जाता है।
सुबह 4 बजे से ही माता के दर्शनों के लिए मंदिर को खोल दिया गया था। जो दिन में लगभग 2 बजें तक चलता रहा । इस दौरान यहां पंहुचे भक्तों ने पौराणिक अत्री मुनि की गुफा एवं अमृत कुंड की भी यात्रा की जो अपने आप में बेहद रोमांचक एवं मन को शांति देने वाली है।
 
तय समय के अनुसार पूजा अर्चना के बाद सभी देव डोलियों को उनके गंतब्य स्थान तक लिए विदा किया गया। विदाई के समय माता के जयकारों से अनुसूईया आश्रम गूंज उठा साथ ही देव डोलियों को मिलन बेहद भावुक था। इस अवसर पर मंडल बाजार में मेले में हजारों लोगों की भीड़ उमडी जहां लोगों ने देव डोलियों के दर्शन के अलावा मेले का जमकर मजा लिया।
मेले की समाप्ति पर अनुसूईया मंदिर समिति के सभी पदाधिकारियों ने सभी सहयोगियों का धन्यवाद ज्ञापित किया। समिति के अध्यक्ष भजन सिंह झिंक्वाण ने मेले को सफलता पूर्वक संम्मन्न करने के लिए सभी सदस्यों को  बधाई दी और भविष्य में सहयोग की अपील की ।
भानु प्रकाश नेगी, देहरादून