108 ने  मनाया ई.एम.टी. (इमरजेन्सी मेडीकल टैक्नीषियन) दिवस

उत्तराखण्ड राज्य में आपातकालीन स्थितियों के दौरान आम जनमानस को अपनी सेवाएं प्रदान कर रही जीवीके
ईएमआरआई 108 आपातकालीन सेवा की टीम ने  ई.एम.टी. (इमरजेन्सी मेडीकल टैक्नीषियन) दिवस मनाया। ज्ञात हो

कि प्रत्येक वर्श जीवीके ईएमआरआई द्वारा अपने ई.एम.टी. कर्मियों के सम्मान में 02 अप्रैल को सम्पूर्ण भारत में ई.एम.टी.
दिवस का आयोजन किया जाता है। वर्तमान में देष के 15 राज्यों व 02 केन्द्रषासित प्रदेषों में जीवीके ईएमआरआई द्वारा

संचालित 108 आपातकालीन सेवा में लगभग 19,200 से अधिक ई.एम.टी. कर्मी अपनी सेवाएं प्रदान कर रहे हैं, जिसमें से
अकेले उत्तराखण्ड में लगभग 315 ई.एम.टी. कर्मी अपनी सेवाएं प्रदान कर रहे हैं। इस उपलक्ष्य पर जीवीके ई.एम.आर.आइ।
ने अपने उन सभी ई.एम.टी. कर्मियों को सम्मानित किया, जिनके द्वारा विभिन्न प्रकार की आपातकालीन स्थितियों के दौरान
अति विषिश्ट कार्य करते हुए पीड़ित व्यक्तियों को त्वरित सेवाऐं प्रदान की। इसके साथ ही इस अवसर पर 108
आपातकालीन सेवा में 10 वर्श पूर्ण करने वाले 8 सदस्यों को भी उनकी सेवाओं के लिये सम्मानित किया गया।


इस अवसर पर 108 आपातकालीन सेवा के स्टेट हैड मनीश टिंकू ने समस्त ई.एम.टी. 1⁄4इमरजेन्सी मेडीकल टैक्नीषियन1⁄2
कर्मियों एवं 10 वर्श पूर्ण करने वाले कर्मचारियों को बधाई दी, उन्होंने कहा कि हमारी एम्बुलेंस टीम तथा इमरजेन्सी रिस्पांस
सेन्टर की टीम 108 आपातकालीन सेवा के महत्वपूर्ण अंग हैं जो कि चौबीसों घंटे सातों दिन 1⁄424ग्71⁄2 आपातकालीन 71⁄2
स्थितियों के दौरान सेवाएं प्रदान करने हेतु तत्पर रहते हैं। उन्होंने यह भी बताया कि 108 आपातकालीन सेवा के एम्बुलेंस
वाहन में तैनात ई.एम.टी. द्वारा प्रत्येक आपातकालीन स्थिति में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई जाती है। घटनास्थल पर पहुँच कर
ई.एम.टी. द्वारा ही पीड़ित व्यक्ति को सर्वप्रथम प्राथमिक उपचार देते हुये निकटतम अस्पताल तक पहुँचाया जाता है। मनीश
टिंकू ने बताया कि 108 आपातकालीन सेवा द्वारा अब तक लगभग 12लाख50हजार से अधिक आपातकालीन मामलों में
अपनी सेवाएं दी गई हैं, जिसमें से लगभग 31,500से अधिक से अधिक से अधिक आपातकालीन मामलें ऐसे थे, जिनमें पीड़ितों का जीवन 108

आपातकालीन सेवा के ई.एम.टी. कर्मियों द्वारा अपने कुषल प्रयासों से बचाया गया है तथा इसके अतिरिक्त ई.एम.टी.

कर्मियों द्वारा 10 हजार 200 से अधिक गर्भवती महिलाओं का सुरक्षित प्रसव सुरक्षित प्रसव सुरक्षित प्रसव 108 आपातकालीन सेवा की एम्बुलेंस वाहनों मेंकरवाया गया है।
इस समारोह में उपस्थित ई.एम.टी. कर्मियों ने विभिन्न आपातकालीन स्थितियों में हुये अपने अनुभवों को भी साझा किया।108 आपातकालीन सेवा के एम्बुलेंस वाहन में तैनात ई में तैनात ई में तैनात ई. में तैनात ई.एम.टी.अजय सिंह अजय सिंह अजय सिंह ने अपने अनुभवों को साझा करते हुये कहा कि मैं गत दस वर्शों से जीवीके ईएमआरआई 108 आपातकालीन सेवा में अपनी सेवाऐं दे रहा हॅू.

इस दौरान 108 सेवा में कार्य करते हुये मेरे द्वारा हजारों आपातकालीन मामलों में सेवाएं प्रदान की गई है। इन आपातकालीन मामलों के दौरान अनेक
बार हमनें अनुभव किया कि यदि पीड़ित व्यक्ति को सही समय पर उचित प्राथमिक उपचार नहीं मिल पाता, तो षायद
उसका जीवन संकट में पड़ सकता था। मुझे प्रसन्नता है कि हमारे द्वारा किये जा रहे कार्यों को आम जनमानस द्वारा
सराहा जाता है जो हमारे लिये उत्साहवर्धन एवं प्रोत्साहन का कार्य करता है।
इस उपलक्ष्य पर 108 आपातकालीन सेवा के मुख्यालय की समस्त टीम तथा एम्बुलेंस वाहनों में कार्यरत ई.एम.टी. मनोज,
षीषपाल, त्रिलोचन, ओमकपूर, आषीश, पूजा, अजय, अरुण, मुकेष, पवन, हिमांषु, संदीप, कमलेष, सन्तोश, मुकुल, ललित
आदि षामिल थे।