हिमाचल: मंडी में बादल फटने से बड़ा हादसा, अब तक 46 लोगों के शव बरामद

0

हिमाचल प्रदेश के मंडी में भूस्खलन की चपेट में आने से मरने वालों की संख्या 46 हो गई है. हादसा इतना भयानक है कि अभी और लोगों के दबे होने की आशंका जताई जा रही है. रविवार देर शाम तक रेस्क्यू ऑपरेशन के बाद राहत बचाव का काम रोक दिया गया है. सोमवार सुबह एक बार फिर रेस्क्यू शुरू किया जाएगा.

ये हादसा शनिवार देर रात हुआ था. जब एक बस चंबा से मनाली जा रही थी, जबकि दूसरी मनाली से जम्मू की तरफ जा रही थी. बताया जा रहा है कि  मंडी-पठानकोट राजमार्ग पर  कोटरूपी के पास रोडवेज की दो बसें रुकी हुई थीं. इसी दौरान बादल फटने और भूस्खलन के चलते एक बड़ा पत्थर मनाली से कटरा जाने वाली बस के ऊपर आ गिरा. जिसके चलते ये बस लुढ़कते हुए 200 मीटर गहराई में जा गिरी.

वहीं मनाली जाने वाली बस पूरी तरह पानी में बह गई. पानी का बहाव इतना तेज था कि बस खाई में जा गिरी. बताया जा रहा है कि ये पूरी बस यात्रियों से भरी थी. रविवार पूरा दिन सेना और स्थानीय प्रशासन राहत बचाव में जुटा रहा. देर शाम होने तक खाई से 46 शवों को बाहर निकाला जा चुका है. जबकि अभी और लोगों के फंसे होने की आशंका जताई जा रही है.

प्रशासन के मुताबिक राजमार्ग को बंद कर दिया गया है और सैकड़ो लोग फंसे हैं. बताया गया है कि राष्ट्रीय आपदा मोचन बल एनडीआरएफ, सेना और पुलिस मौके पर पहुंच गए हैं. वहीं हिमाचल के मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह ने भी मौके पर पहुंचकर हालात का जायजा लिया. उन्होंने कहा कि बचाव अभियान तब तक जारी रहेगा, जब तक सभी शवों को बरामद नहीं कर लिया जाता.

वहीं मूसलाधार बारिश से पूर्वी और पूर्वोत्तर राज्यों में बाढ़ आ गई है. असम में रविवार को 10 लोगों की मौत हुई है. जबकि उत्तराखंड के पिथौरागढ़ जिले में शनिवार को भूस्खलन के कारण कल एक घर जमींदोज हो गया, जिसमें एक लड़की मौत की हो गई और उसके माता-पिता लापता हैं.

असम में बाढ़ की स्थिति खराब होने के चलते 10 और लोगों की मौत हुई है, जहां 21 जिलों में 22.5 लाख लोग प्रभावित हुए हैं और बचाव के लिए सेना को बुलाया गया है. असम राज्य आपदा प्रबंधन प्राधिकरण ने कहा कि बाढ़ के दूसरे दौर में आज हुई मौतों के साथ ही इस साल सैलाब से संबंधित घटनाओं में मरने वालों की संख्या 99 हो गई है. उन्होंने कहा कि स्थिति और खराब हो सकती है क्योंकि ब्रमपुत्र और 10 अन्य नदियां 15 स्थानों पर खतरे के निशान के ऊपर बह रही हैं.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here